Home > हेल्थ > पुरूषों की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा झेलती हैं 'गर्दन का दर्द' क्योंकि..

पुरूषों की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा झेलती हैं 'गर्दन का दर्द' क्योंकि..

 Special News Coverage |  2016-03-11 13:59:43.0

पुरूषों की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा झेलती हैं 'गर्दन का दर्द' क्योंकि..

महिलाओं को पुरुषों की अपेक्षा में गर्दन दर्द का अधिक सामना करना पड़ता है। एक नए शोध में इसकी पुष्टि हुई है। आज कल की भाग दौड़ भड़ी जिन्दगी में सभी काफी व्यस्त रहते हैं और इसी व्यस्तता के चलते उन्हें प्रतिदिन शारीर में कही न कही दर्द का सामना करना पड़ता हैं, यह दर्द सर्वाइकल डिजेनरेटिव डिस्क रोग के कारण होता है और पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यह समस्या 1.38 फीसदी अधिक होने की संभावना होती है।

एक शोध के अनुसार ये पाया गया हैं की पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को गर्दन का दर्द अधिक सहना पड़ता हैं, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यह समस्या 1.38 फीसदी अधिक होने की संभावना होती है। सर्वाइकल डिजेनरेटिव डिस्क रोग गर्दन के दर्द का एक आम कारण है। इसमें गर्दन में खिंचाव, जलन, झुनझुनी और स्तब्धता का अनुभव होता है. सिर और गर्दन को हिलाने-डुलाने पर काफी तेज दर्द महसूस होता है।


इस शोध में लोयोला यूनिवर्सिटी शिकागो स्ट्रिच स्कूल ऑफ मेडिसिन के भारतीय मूल के शोधार्थी राघवेंद्र और जोसेफ होल्टमैन ने 3,337 रोगियों का अध्ययन किया, जो दर्द का इलाज करा रहे थे।

इस शोध में शोधार्थियों ने बताया कि महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा में दर्द का फैलाव थोड़ा अधिक पाया गया, हालांकि यह अंतर सांख्यिकी रूप से महत्वपूर्ण नहीं था। यह शोध 'अमेरिकन एकेडमी ऑफ पेन मेडिसिन इन पाल्म स्प्रिंग्स' की वार्षिक बैठक में प्रस्तुत किया गया है।

Tags:    
Share it
Top