Home > अंतर्राष्ट्रीय > 259 अरब रुपये से बना दुनिया का सबसे महंगा रेलवे स्टेशन, पढ़ें क्यों है खास

259 अरब रुपये से बना दुनिया का सबसे महंगा रेलवे स्टेशन, पढ़ें क्यों है खास

 Special News Coverage |  2016-03-05 11:56:26.0

259 अरब रुपये से बना दुनिया का सबसे महंगा रेलवे स्टेशन

न्यूयार्क: दुनिया का सबसे महंगा ट्रेन स्टेशन न्यूयार्क में शुरू हो गया है। इसे जनता के लिए खोल दिया गया हैं। यह स्टेशन 9/11 अटैक वाली जगह पर बनाई गयी है। यह ट्रेन स्टेशन उसी वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के स्थान पर बना है, जो 14 साल पहले हुए 9/11 हमलों में नष्ट हो गया था। इस स्टेशन को बनने में 12 साल का समय लगा है। इस स्टेशन के जरिए यात्री न्यूजर्सी और न्यूयॉर्क सबवे की ट्रेन पकड़ सकेंगे। साथ ही रेस्टुरेंट व शॉपिंग प्लाजा और ट्रेड सेंटर टावर्स में जाने की सुविधा भी होगी।


इस बिल्डिंग को स्पेनिश-स्विस वास्तुकार सेंटियागो कालात्रावा ने डिजाइन किया है और इसे ओक्यूलस नाम दिया गया है। यह अंडाकार इमारत है, जिसके निर्माण में स्टील का इस्तेमाल हुआ है। कांच से बनीं दीर्घवत्ताकार आकृतियां आसमान को छूती हुई दिखाई देती हैं और किसी पक्षी के पंखों का आभास कराती हैं। कालात्रावा की वेबसाइट के अनुसार, यह 350 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है।

टि्वन टावर को अलकायदा के आतंकियों द्वारा विमान अपहरण करके नष्ट कर दिया गया था। यह केंद्र पीएटीएच यात्री रेल को न्यू जर्सी के साथ न्यू यॉर्क सबवे लाइनों से जोड़ता है। यह ट्रेड सेंटर टावरों तक पहुंचने के लिए पैदल यात्रियों को भी अंदर से ही रास्ता उपलब्ध करवाता है। इस स्टेशन में बनाई गई दुकानें अगस्‍त तक खुलेंगी। इसमें खरीददारी की दुकानें और रेस्तरां आदि भी होंगे। इसके निर्माण में तय समय से सात साल ज्यादा लगे हैं। इसका शुरुआती बजट 2 बिलियन यानि लगभग 134 अरब रुपये था जो बढ़कर 259 अरब हो गया। इसके चलते यह दुनिया का सबसे महंगा रेलवे स्टेशन बन गया। यह स्टेशन अंदर से पूरा मार्बल का बनाया गया है। इसे सफेद रंग में बनाया गया है।

न्यूयॉर्क पोर्ट अथॉरिटी की ओर से जारी बयान के अनुसार इस ट्राजिंट हब में प्रतिदिन ढाई लाख लोग आ सकेंगे। साथ ही दो लाख से ज्यादा यात्री सफर कर सकेंगे। इस स्टेशन की लागत, निर्माण समय और डिजाइन को लेकर काफी लोग सवाल भी उठा रहे हैं। कई जानकारों ने इस लागत को बेवजह बताया। उनका कहना है कि आर्थिक संकट के समय में इससे बचा जा सकता था। वहीं बचाव में कहा जा रहा है कि इस पर फ्रीडम टावर जितना ही खर्च आया है। फ्रीडम टावर हमले में बर्बाद हुए टि्वन टावर की याद में बनाया गया है।

Tags:    
Share it
Top