Home > अंतर्राष्ट्रीय > अमेरिका ने F-16 विमान को लेकर पाकिस्तान को दिया बड़ा झटका

अमेरिका ने F-16 विमान को लेकर पाकिस्तान को दिया बड़ा झटका

 Special News Coverage |  2016-05-03 08:40:30.0

अमेरिका ने F-16 विमान को लेकर पाकिस्तान को दिया बड़ा झटका

वॉशिंगटन: शीर्ष अमेरिकी सांसदों द्वारा पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू विमान बेचे जाने का विरोध किए जाने के बाद यह डील ठंडे बस्ते में जाता दिख रहा है। अमेरिका ने अपने शीर्ष अमेरिकी सीनेटरों की आपत्ति के बाद पाकिस्तान को एफ-16 लडाकू विमान को खुद ही खरीदने की बात कही है। खबरों के अनुसार, यदि अब पाकिस्तचान अमेरिका से एफ-16 लड़ाकू विमान खरीदता है, तो उसे पूरे पैसे अपने पास से चुकाने होंगे।

अमेरिका के विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि सांसदों द्वारा विरोध किए जाने का मतलब यह है कि अब अमेरिका के सैन्य विभाग के बजट का इस्तेमाल

लड़ाकू विमानों को खरीदने में नहीं किया जा सकता। सांसदो द्वारा आपत्ति जताए जाने के बाद हमने पाकिस्तान को साफ कह दिया है कि अब उसे एफ-16 विमान खुद से ही खरीदना होगा।

शीर्ष अमेरिकी सीनेटरों द्वारा पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू विमानों की बिक्री के लिए अपने करदाताओं के धन के इस्तेमाल पर रोक लगा दिए जाने के बाद ओबामा प्रशासन ने
पाकिस्तान
को ये विमान खरीदने के लिए अपना ‘‘राष्ट्रीय कोष पेश करने’’ को कहा है। हालांकि किर्बी ने यह नहीं बताया कि यह निर्णय कब लिया गया और इसके बारे में पाकिस्तान को कब बताया गया।

अब ऐसी स्थिति में उम्मीद है कि पाकिस्तान इस डील के लिए स्वंय ही मना कर दे। अमेरिकी रक्षा विभाग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इन आठ विमानों और इससे जुड़े उपकरणों की कुल कीमत करीबन 70 करोड़ डॉलर है। इससे पहले तक इस डील में अमेरिका की ओर से 43 करोड़ डॉलर और पाकिस्तान की ओर से 27 करोड़ डॉलर की राशि दोनों देश वहन कर रहे थे।

अमेरिकी विदेश विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि ओबामा प्रशासन अब भी पाकिस्तान के साथ यह डील करना चाहता है। लेकिन इसमें अमेरिकी डॉलर खर्च नहीं किया जा सकता। इसके साथ ही पाकिस्तान को दी जाने वाली विदेशी सैन्य मदद पर रोक लगी दी गई है, जो कि कुल 74 करोड़ 20 लाख डॉलर थी। इस फैसले में बदलाव तभी संभव है जब कांग्रेस इस पर दोबारा से विचार करे।

बता दें कि इस मामले में सांसदो का कहना था कि पाकिस्तान इन लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ कर सकता है। जब कि पाकिस्तान का कहना था कि वो इसे आतंकवाद के खिलाफ लड़ने में प्रयोग करेगा।

Tags:    
Share it
Top