style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">


क्यों मारा जाता है पत्थर?
मक्का में पत्थर मारना शैतान के विरोध का प्रतीक है। शैतान का प्रतीक तीन विशाल खंभों के रूप में मौजूद है। यह हज यात्री कंकड़ इकट्‌ठा करते हैं और उन्हें खंभों पर मारते हैं। ऐसा माना जाता है कि शैतान सबसे पहले अब्राहम, उनकी पत्नी हेगर और पुत्र इशामल के सामने उपस्थित हुआ था।

meeca2_1443090656

क्यों मची भगदड़?
अल जजीरा चैनल के मुताबिक, हादसा मीना के 204 स्ट्रीट पर करीब 10.00 बजे (लोकल टाइम) हुआ। यह स्‍ट्रीट हाजियों के लिए बनाए गए कैंप्‍स के पास है। यहां हाजियों का एक ग्रुप बैठा हुआ था। इसी बीच दूसरा ग्रुप वहां पहुंचा। दूसरे ग्रुप के कुछ हाजी पहले से बैठे लोगों पर चढ़ गए। जिसके बाद भगदड़ मच गई। लोग एक-दूसरे के ऊपर गिरने लगे और कुछ ही मिनट में वहां लाशें ही लाशें बिछ गईं।

mecca-stampede2_144308399

सऊदी की सरकारी मीडिया के मुताबिक, किंग सलमान बुधवार से मक्का में ही हैं। वे हज यात्रा के इंतजाम की निगरानी के लिए गए थे। गुरुवार को हुए हादसे के तुरंत बाद उन्‍होंने राहत और बचाव का काम शुरू कराया। सरकार ने 4000 से ज्‍यादा लोगों को इस काम में लगाया। मौके पर 220 से ज्यादा एंबुलेंस बुलवा कर घायलों को अस्‍पताल पहुंचाया गया। * Helpline nos: 00966125458000, 00966125496000

saudi3_1443086913

पहले भी हो चुका है हादसा
2006 में 12 जनवरी को भी शैतान को पत्थर मारने की घटना के दौरान भगदड़ मची थी जिसमें 400 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। बता दें कि मक्का के बाहरी इलाके मीना में शैतान को पत्थर मारने का रिवाज है। इस दौरान हज यात्री तीन पत्थर शैतान को मारते हैं।

मक्का में कब-कब हुए हादसे

तारीखकितनी मौतें
2 जुलाई, 1990पैदल चलने के लिए बनी एक टनल में भगदड़ में 1,426 लोगों की मौत।
23 मई, 1994शैतान को पत्थर मारने के दौरान 270 की मौत।
9 अप्रैल, 1998जमारात ब्रिज पर भगदड़ में 118 की मौत और 180 घायल।
5 मार्च, 2001शैतान को पत्थर मारने के दौरान 35 लोगों की मौत।
11 फरवरी, 2003शैतान को पत्थर मारने के दौरान 14 श्रद्धालुओं की मौत।
1 फरवरी, 2004शैतान को पत्थर मारने के दौरान मची भगदड़। 251 की मौत, 244 घायल।
12 जनवरी, 2006भगदड़ में 340 लोगों की मौत और 290 घायल।

हज को लेकर क्या है सुरक्षा के इंतजाम?
1.1 लाख लोगों को तैनात किया गया है।
5000 कैमरे लगाए गए हैं, ताकि हर गतिविधि पर नजर रखी जा सके।
1.36 लाख लोग भारत से हज करने के लिए गए हैं, किसी देश से सबसे ज्यादा



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">

", | "url" : "http://specialcoveragenews.in/international-news/mecca-stampede-dozen-feared/", | "publisher" : { | "@type" : "Organization", | "name" : "Special Coverage News", | "logo" : { | "@context" : "http://schema.org", | "@type" : "ImageObject", | "contentUrl" : "http://specialcoveragenews.in/images/logo.png", | "height": "150", | "width" : "50", | "url" : "http://specialcoveragenews.in/images/logo.png" | } | }, | "mainEntityOfPage": { | "@type": "WebPage", | "@id": "http://specialcoveragenews.in/international-news/mecca-stampede-dozen-feared/" | } | }
Home > अंतर्राष्ट्रीय > मक्का में भगदड़: हज के आखिरी दिन 310 से ज्यादा हज यात्रियों की मौत, 500 ज्यादा लोग जख्मी

मक्का में भगदड़: हज के आखिरी दिन 310 से ज्यादा हज यात्रियों की मौत, 500 ज्यादा लोग जख्मी

 Special News Coverage |  2015-09-24 08:56:04.0

mecca-stampede3_144308399

मक्काः सऊदी अरब के पवित्र शहर मक्का के मीना में हज के दौरान भगदड़ मचने से इसमें 310 से ज्यादा लोगों के मारे जाने की खबर है। 500 से ज्यादा लोग जख्मी हैं। सऊदी में गुरुवार को बकरीद (ईद उल जुहा) मनाई जा रही है। गुरुवार को ही हज का आखिरी दिन भी है। इस वजह से बड़ी संख्‍या में लोग मीना में जमा थे। इस दिन शैतान को पत्थर मारने की रस्‍म भी पूरी की गई। अभी जल्दी में ही क्रेन दुर्घटना में भी कई जाने गई।

mecca-stampede_14430
न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, भगदड़ शैतान को पत्थर मारने के दौरान मची। और फिर क्या था नजारा ही बदल गया। चीत्कार में बदल गया उत्सव।




style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">


क्यों मारा जाता है पत्थर?
मक्का में पत्थर मारना शैतान के विरोध का प्रतीक है। शैतान का प्रतीक तीन विशाल खंभों के रूप में मौजूद है। यह हज यात्री कंकड़ इकट्‌ठा करते हैं और उन्हें खंभों पर मारते हैं। ऐसा माना जाता है कि शैतान सबसे पहले अब्राहम, उनकी पत्नी हेगर और पुत्र इशामल के सामने उपस्थित हुआ था।

meeca2_1443090656

क्यों मची भगदड़?
अल जजीरा चैनल के मुताबिक, हादसा मीना के 204 स्ट्रीट पर करीब 10.00 बजे (लोकल टाइम) हुआ। यह स्‍ट्रीट हाजियों के लिए बनाए गए कैंप्‍स के पास है। यहां हाजियों का एक ग्रुप बैठा हुआ था। इसी बीच दूसरा ग्रुप वहां पहुंचा। दूसरे ग्रुप के कुछ हाजी पहले से बैठे लोगों पर चढ़ गए। जिसके बाद भगदड़ मच गई। लोग एक-दूसरे के ऊपर गिरने लगे और कुछ ही मिनट में वहां लाशें ही लाशें बिछ गईं।

mecca-stampede2_144308399

सऊदी की सरकारी मीडिया के मुताबिक, किंग सलमान बुधवार से मक्का में ही हैं। वे हज यात्रा के इंतजाम की निगरानी के लिए गए थे। गुरुवार को हुए हादसे के तुरंत बाद उन्‍होंने राहत और बचाव का काम शुरू कराया। सरकार ने 4000 से ज्‍यादा लोगों को इस काम में लगाया। मौके पर 220 से ज्यादा एंबुलेंस बुलवा कर घायलों को अस्‍पताल पहुंचाया गया। * Helpline nos: 00966125458000, 00966125496000

saudi3_1443086913

पहले भी हो चुका है हादसा
2006 में 12 जनवरी को भी शैतान को पत्थर मारने की घटना के दौरान भगदड़ मची थी जिसमें 400 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। बता दें कि मक्का के बाहरी इलाके मीना में शैतान को पत्थर मारने का रिवाज है। इस दौरान हज यात्री तीन पत्थर शैतान को मारते हैं।

मक्का में कब-कब हुए हादसे

तारीखकितनी मौतें
2 जुलाई, 1990पैदल चलने के लिए बनी एक टनल में भगदड़ में 1,426 लोगों की मौत।
23 मई, 1994शैतान को पत्थर मारने के दौरान 270 की मौत।
9 अप्रैल, 1998जमारात ब्रिज पर भगदड़ में 118 की मौत और 180 घायल।
5 मार्च, 2001शैतान को पत्थर मारने के दौरान 35 लोगों की मौत।
11 फरवरी, 2003शैतान को पत्थर मारने के दौरान 14 श्रद्धालुओं की मौत।
1 फरवरी, 2004शैतान को पत्थर मारने के दौरान मची भगदड़। 251 की मौत, 244 घायल।
12 जनवरी, 2006भगदड़ में 340 लोगों की मौत और 290 घायल।

हज को लेकर क्या है सुरक्षा के इंतजाम?
1.1 लाख लोगों को तैनात किया गया है।
5000 कैमरे लगाए गए हैं, ताकि हर गतिविधि पर नजर रखी जा सके।
1.36 लाख लोग भारत से हज करने के लिए गए हैं, किसी देश से सबसे ज्यादा



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">

Tags:    
Share it
Top