style="display:inline-block;width:728px;height:90px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="3183883085">





संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी ने सितंबर माह के लिए परिषद के अध्यक्ष विताली चरकिन को लिखे पत्र में परिषद से अनुरोध किया था कि वह कश्मीर में नियंत्रण रेखा और कामकाजी सीमा के पास ''भारत की उकसाने वाले कार्रवाई पर ध्यान दे।’’ पत्र में यूएनएससी अध्यक्ष से कहा गया है कि पाकिस्तान भारत से संयम बरतने और 2003 के संघर्षविराम समझौते का पालन करे। पाकिस्तान पिछले कुछ सप्ताह से संयुक्त राष्ट्र के डिपार्टमेंट ऑफ पॉलिटिकल अफेयर्स एंड पीसकीपिंग ऑपरेशंस में शीर्ष अधिकारियों के समक्ष यह मुद्दा उठा रहा है।


ताज़ा खबरों से जुड़े रहने के लिए फेसबुक पर लाइक करें - Facebook
ट्विटर पर फॉलो करें - Twitter
स्पेशल कवरेज न्यूज़ के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें
", | "url" : "http://specialcoveragenews.in/international-news/pakistan-should-discuss-concerns-over-loc-violations-with-india-indian-diplomat/", | "publisher" : { | "@type" : "Organization", | "name" : "Special Coverage News", | "logo" : { | "@context" : "http://schema.org", | "@type" : "ImageObject", | "contentUrl" : "http://specialcoveragenews.in/images/logo.png", | "height": "150", | "width" : "50", | "url" : "http://specialcoveragenews.in/images/logo.png" | } | }, | "mainEntityOfPage": { | "@type": "WebPage", | "@id": "http://specialcoveragenews.in/international-news/pakistan-should-discuss-concerns-over-loc-violations-with-india-indian-diplomat/" | } | }
Home > अंतर्राष्ट्रीय > UN के भारतीय दूत ने कहा, ‘पाकिस्तान शिमला समझौते का कर रहा उल्लंघन’

UN के भारतीय दूत ने कहा, ‘पाकिस्तान शिमला समझौते का कर रहा उल्लंघन’

 Special News Coverage |  2015-09-09 13:21:13.0

asoke



संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र में भारत के शीर्ष राजनयिक ने कहा है कि पाकिस्तान को जम्मू्-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम उल्लंघन संबंधी अपनी चिंताओं को लेकर द्विपक्षीय बातचीत करनी चाहिए। पाकिस्तान ने इस मुद्दे पर कुछ ही दिनों पहले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को पत्र लिखा था।

कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम उल्लंघनों के संबंध में पाकिस्तान द्वारा यूएनएससी को लिखे गए पत्र के बारे में पूछे जाने पर संयुक्त राष्ट्र में भारत के दूत असोक मुखर्जी ने कहा, ''यदि उन्होंने उस विषय पर सुरक्षा परिषद को पत्र लिखा है जो कि द्विपक्षीय है और जिसे शिमला समझौते में भी शामिल किया गया था, तो मैं उनके इस कदम से काफी हैरान हूं। शिमला समझौते पर दोनों देशों ने हस्ताक्षर किए थे।


उन्होंने कहा कि पत्र संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को लिखा गया है और भारत इस शीर्ष संस्था का सदस्य नहीं है। उन्होंने कहा, ''यदि उन्हें चिंता है, तो उन्हें हमसे द्विपक्षीय वार्ता करनी चाहिए थी। (कश्मीर) यह हमेशा से एक द्विपक्षीय मामला रहा है। पाकिस्तान ने पिछले शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को एक पत्र लिखकर संघर्षविराम उल्लंघन का मामला उठाया था।



style="display:inline-block;width:728px;height:90px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="3183883085">





संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी ने सितंबर माह के लिए परिषद के अध्यक्ष विताली चरकिन को लिखे पत्र में परिषद से अनुरोध किया था कि वह कश्मीर में नियंत्रण रेखा और कामकाजी सीमा के पास ''भारत की उकसाने वाले कार्रवाई पर ध्यान दे।’’ पत्र में यूएनएससी अध्यक्ष से कहा गया है कि पाकिस्तान भारत से संयम बरतने और 2003 के संघर्षविराम समझौते का पालन करे। पाकिस्तान पिछले कुछ सप्ताह से संयुक्त राष्ट्र के डिपार्टमेंट ऑफ पॉलिटिकल अफेयर्स एंड पीसकीपिंग ऑपरेशंस में शीर्ष अधिकारियों के समक्ष यह मुद्दा उठा रहा है।


ताज़ा खबरों से जुड़े रहने के लिए फेसबुक पर लाइक करें - Facebook
ट्विटर पर फॉलो करें - Twitter
स्पेशल कवरेज न्यूज़ के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Share it
Top