style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">




अमेरिकी सीईओ के समक्ष पेश की गयी भारत की आर्थिक विकास की तस्वीर

इससे पहले, भारत में अमेरिकी निवेश आमंत्रित करने का पुरजोर प्रयास करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के सीईओ के समक्ष भारत की आर्थिक वृद्धि की कहानी पेश की और भारत में कारोबार करने में पेश आ रही रुकावटों को दूर करने का आश्वासन दिया। उन्होंने उद्योगों के प्रमुखों के समक्ष सरकार के सुधार एजेंडे की तस्वीर पेश की। फॉर्च्यून-500 से जुड़ी कई कंपनियों के प्रमुखों से मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा, हमारी सरकार निजी सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) का मजबूती से समर्थन करती है। पिछले वर्ष हमारी वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही। प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में भी 40 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है।



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">




निवेश के अवसर गिनाए
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने प्रधानमंत्री के हवाले से ट्वीट के जरिये यह जानकारी देते हुए बताया कि पीएम मोदी ने बैठक के दौरान पिछले 15 महीने में कराधान, आधारभूत संरचना और एफडीआई के क्षेत्र में निवेश बढ़ाने की दिशा में किए गए प्रयासों का जिक्र किया।

Met top American CEOs from media & entertainment sector. They were enthusiastic about the change @_DigitalIndia initiative in driving.

— Narendra Modi (@narendramodi) September 25, 2015



स्वरूप ने कहा कि कंपनियों के सीईओ ने प्रधानमंत्री के साथ भारत में कारोबार करने के अपने अनुभवों को साझा किया। प्रधानमंत्री ने चर्चा के दौरान इनके सुझाव नोट किए, साथ ही भारत में विदेशी संस्थागत निवेशकों और एफडीआई के लिए उपलब्ध व्यापक अवसरों का जिक्र किया।



style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">



पीएम मोदी ने की शेख हसीना से मुलाकात
इससे पहले, पीएम मोदी बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से मिले। यूएन समिट के पहले दोनों नेताओं की ये शिष्टाचार मुलाकात थी। सूत्रों के अनुसार, मोदी ने इस साल जून में अपनी ढाका यात्रा के दौरान हुए फैसलों को आगे बढ़ने को लेकर बात की। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री शेख हसीना से एक और फलदायक मुलाकात। हमने भारत-बांग्लादेश संबंधों के बारे में चर्चा की।

Yet another productive meeting with PM Sheikh Hasina. We discussed India-Bangladesh ties. pic.twitter.com/RN9LFbeLvG

— Narendra Modi (@narendramodi) September 24, 2015



href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

", | "url" : "http://specialcoveragenews.in/international-news/prime-minister-narendra-modi-in-us/", | "publisher" : { | "@type" : "Organization", | "name" : "Special Coverage News", | "logo" : { | "@context" : "http://schema.org", | "@type" : "ImageObject", | "contentUrl" : "http://specialcoveragenews.in/images/logo.png", | "height": "150", | "width" : "50", | "url" : "http://specialcoveragenews.in/images/logo.png" | } | }, | "mainEntityOfPage": { | "@type": "WebPage", | "@id": "http://specialcoveragenews.in/international-news/prime-minister-narendra-modi-in-us/" | } | }
Home > अंतर्राष्ट्रीय > US में पीएम मोदी ने टॉप CEOs से बोले- भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए हमें और सुविधाएं चाहिए

US में पीएम मोदी ने टॉप CEOs से बोले- भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए हमें और सुविधाएं चाहिए

 Special News Coverage |  2015-09-25 04:14:23.0

modi-in-usa
न्यूयार्क: अमेरिका दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूयार्क के वाल्डोर्फ एस्टोरिया होटल में अमेरिका के 40 से अधिक शीर्ष कार्यकारियों (सीईओ) के साथ डिनर किया। सीईओ के साथ हुई राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस में पीएम ने भारत में निवेश के लिए सुझाव मांगे। उन्होंने भारत में बिजनेस करने को लेकर सभी की चिंताओं की लिस्ट भी मांगी। इस दौरान इंडस्ट्री लीडर्स का कहना था कि पीएम ने पिछले एक साल में कई सुधार किए हैं, पर हमें और सुविधाएं चाहिए। इससे पहले पीएम मोदी अमेरिका के आठ बड़ी फाइनेंशियल कंपनियों के सीईओ से मिले।


पीएम ने अमेरिका की दिग्गज कंपनियों को भरोसा दिलाया कि उनकी सरकार भारत में इनवेस्टमेंट की राह आसान करने की दिशा में काम कर रही है। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया भर में विदेशी निवेश में गिरावट आई है, लेकिन भारत में इसमें 40% बढ़ोतरी हुई है, यह भारतीय अर्थव्यवस्था में भरोसे को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि शासन प्रणाली में सुधार हमारी शीर्ष प्राथमिकता है। हम नियमों को सरल बना रहे हैं, निर्णय में तेजी और पारदर्शिता ला रहे हैं।

ModiinUSA

उन्होंने कहा कि पिछले 15 महीने में देश में टैक्सेशन, एफडीआई, इनफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के बारे में ऐसे फैसले हुए हैं जिससे इनवेस्टमेंट और बिजनेस करने का माहौल सुधरा है।मोदी ने कहा कि वर्ल्ड बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष और मूडीज जैसी ऑर्गनाइजेशन का भी मानना है कि भारत में इकोनॉमी के और ऊपर जाना तय है।

प्रधानमंत्री ने होटल में एक के बाद एक कई बैठकें कीं। उनसे मुलाकात करने वालों में प्रसिद्ध उद्योगपति और न्यूयार्क के पूर्व मेयर माइक ब्लूमबर्ग तथा मास्टरकार्ड के सीईओ और अमेरिका-भारत बिजनेस काउंसिल के प्रमुख अजय बंगा भी शामिल थे। पीएम मोदी से मुलाकात करने वाले अन्य लोगों में एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्र की बड़ी कंपनी लॉकहीड मार्टिन के कॉरपोरेशन के अध्यक्ष मार्लिन ह्यूसन और इंफ्रास्ट्रक्चर फर्म ऐकॉम के अध्यक्ष और सीईओ माइक बुर्के भी थे।

वहीं, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बताया कि सभी CEO's ने इकोनॉमिक रिफॉर्म्स की तारीफ की है। सभी ने माना है कि भारत में इनवेस्टर्स को अट्रेक्ट करने की क्षमता है।

मिडिया के दिग्गजों से भी मिले पीएम मोदी

इससे पहले अमेरिका मीडिया सेक्टर के दिग्गजों से मुलाकात के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है, जो रचनात्मकता को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक है। अमेरिकी फर्मों का कहना है कि बौद्धिक संपदा अधिकार के बारे में भारत में कानून ढीला है, खासकर फार्मास्युटिक्ल सेक्टर में, लेकिन भारत का कहना है कि उसके कानून वैश्विक नियमों के अनुसार ही है। इनमें न्यूज कॉर्प, 21st सेंचुरी फॉक्स, सोनी, ईएसपीएन, डिस्कवरी जैसे बड़े चैनल के सीईओ शामिल थे। उन्होंने राउंड टेबल कांफ्रेंस में ब्रांड इंडिया पर बात की।



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">




अमेरिकी सीईओ के समक्ष पेश की गयी भारत की आर्थिक विकास की तस्वीर

इससे पहले, भारत में अमेरिकी निवेश आमंत्रित करने का पुरजोर प्रयास करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के सीईओ के समक्ष भारत की आर्थिक वृद्धि की कहानी पेश की और भारत में कारोबार करने में पेश आ रही रुकावटों को दूर करने का आश्वासन दिया। उन्होंने उद्योगों के प्रमुखों के समक्ष सरकार के सुधार एजेंडे की तस्वीर पेश की। फॉर्च्यून-500 से जुड़ी कई कंपनियों के प्रमुखों से मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा, हमारी सरकार निजी सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) का मजबूती से समर्थन करती है। पिछले वर्ष हमारी वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही। प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में भी 40 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है।



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">




निवेश के अवसर गिनाए
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने प्रधानमंत्री के हवाले से ट्वीट के जरिये यह जानकारी देते हुए बताया कि पीएम मोदी ने बैठक के दौरान पिछले 15 महीने में कराधान, आधारभूत संरचना और एफडीआई के क्षेत्र में निवेश बढ़ाने की दिशा में किए गए प्रयासों का जिक्र किया।




स्वरूप ने कहा कि कंपनियों के सीईओ ने प्रधानमंत्री के साथ भारत में कारोबार करने के अपने अनुभवों को साझा किया। प्रधानमंत्री ने चर्चा के दौरान इनके सुझाव नोट किए, साथ ही भारत में विदेशी संस्थागत निवेशकों और एफडीआई के लिए उपलब्ध व्यापक अवसरों का जिक्र किया।



style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">



पीएम मोदी ने की शेख हसीना से मुलाकात

इससे पहले, पीएम मोदी बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से मिले। यूएन समिट के पहले दोनों नेताओं की ये शिष्टाचार मुलाकात थी। सूत्रों के अनुसार, मोदी ने इस साल जून में अपनी ढाका यात्रा के दौरान हुए फैसलों को आगे बढ़ने को लेकर बात की। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री शेख हसीना से एक और फलदायक मुलाकात। हमने भारत-बांग्लादेश संबंधों के बारे में चर्चा की।




href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें

Tags:    
Share it
Top