Home > अंतर्राष्ट्रीय > टाटा स्टील ने ब्रिटेन का अपना कारोबार ग्रेबुल को बेच दिया

टाटा स्टील ने ब्रिटेन का अपना कारोबार ग्रेबुल को बेच दिया

 Special News Coverage |  2016-04-12 12:35:52.0

टाटा स्टील ने ब्रिटेन का अपना कारोबार ग्रेबुल को बेच दिया

लंदन: टाटा स्टील कंपनी ने ब्रिटेन स्थित अपने कारोबार को धीरे-धीरे बेचना शुरू कर दिया है। जिसमें उसने अपनी लॉन्ग प्रोडक्ट नाम की बिजनेस यूनिट को निवेश फर्म ग्रेबुल के हाथों बेच दिया है। दोनों कंपनियों के बीच इस सौदे को लेकर कल हस्ताक्षर हो गए। टाटा ने डील महज एक पाउंड यानी करीब 95 रुपये में ही बेचा है।

फर्मों को घाटे से मुनाफे में लाने की माहिर कंपनी ग्रेबुल कैपिटल ने टाटा स्टील के यूके लॉन्ग प्रोडक्ट प्लांट को महज एक पाउंड में खरीदा है। इस डील के लिए टाटा स्टील यूके ने केपीएमजी को एडवाइजर अपॉइंट किया है। कंपनी ने बयान जारी कर कहा है कि यह डील, यूके के रेग्युलेटर से मंजूरी मिलने के बाद ही पूरी होगी। इस डील से अब 4 हजार से ज्यादा लोगों की नौकरियां बचाएगी जा सकेंगी।


आपको बता दें ब्रिटेन में स्टील उद्योग इस समय भारी मंदी चल रहा है और टाटा स्टील को भी लगातार नुकसान उठाना पड़ रहा है। ब्रिटेन में पिछले काफी समय से टाटा के स्टील कारोबार पर आर्थिक मंदी का असर साफ दिख रहा है। ऐसे में इधर टाटा ग्रुप ने मुंबई में बोर्ड बैठक कर वहां के कारोबार बंद करने का ऐलान किया था। सबसे पहले कंपनी ने लॉन्ग प्रोडक्ट यूरोप नाम की कारोबारी यूनिट को यहां पर निवेश फर्म ग्रेबुल कैपिटल को बेच दिया।

टाटा स्टील के फैसले से हिला ब्रिटेन, PM कैमरून ने बुलाई आपात बैठक

आपको बता दें टाटा के इस फैसले को लेकर ब्रिटेन सरकार भी हिल गई। प्रधानमंत्री डेविड कैमरून ने इस मामले पर चर्चा के लिए आपात बैठक बुलाई थी। उसने टाटा के अधिकारियों से भी इस संबंध में बात की थी। जिसके बाद ब्रिटेन सरकार इस कोशिश में जुट गई कि प्लांट सही खरीदार को बेचे जाएं। सही खरीददार मिलने पर यह कारोबार बंद नहीं होगा। इस कारोबार में 15 हजार कर्मचारी कार्यरत हैं।

इतना ही नहीं इसके तहत ब्रिटेन में दो स्टील कारखाने, एक इंजीनियरिंग वर्कशॉप व एक डिजाइन कंसल्टेंसी और फ्रांस की एक मिल शामिल है। इससे यहां के करीब 4,400 लोगों की नौकरी बच गई है। इसके अलावा फ्रांस की मिल में कार्यरत करीब 400 लोगों को भी बेरोजगारी की मार नहीं झेलने पड़ेगी। हालांकि इसके साथ ही उन्‍होंने यह भी साफ कर दिया है कि इस करार के बाद अब ग्रेबुल अपनी ओर से इसमें एक बड़ानिवेश करेगी। ग्रेबुल अब करीब 40 करोड़ पौंड (करीब 3,800) करोड़ रुपये के निवेश के साथ इसे काफी तेजी से स्‍ट्रांग बनाएगी।

Tags:    
Share it
Top