Home > अंतर्राष्ट्रीय > कांग्रेस को झटका, अगस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में दी गयी थी रिश्वत

कांग्रेस को झटका, अगस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में दी गयी थी रिश्वत

 Special News Coverage |  2016-04-26 07:52:29.0

कांग्रेस को झटका, अगस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में दी गयी थी रिश्वत

नई दिल्ली: भारत के इटली की कंपनी से अगस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर विवादित सौदे मामले में इटली की अदालत ने माना है कि इसमें भारत के कुछ लोगों को रिश्वत दी गयी थी। अदालत ने अगस्टा वेस्टलैंड चाॅपर कंपनी के प्रमुख ऊर्सी व हेलिकॉप्टर बनाने वाली कंपनी फिनमेक्कनिका को घूस देने का दोषी माना है। इस मामले में कंपनी के प्रमुख ऊर्सी को चार साल की सजा मिली है। जज ने अपना फैसला सुनाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भी जिक्र किया। साथ ही इस फैसले में तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह व यूपीए के समय के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एमके नारायणन का भी जिक्र किया गया है।


वहीं मिलान कोर्ट ने पूर्व वायु सेना प्रमुख एसपी त्यागी को दोषी माना है। अखबार के मुताबिक 225 पेज की फैसले की कॉपी में 17 पेज का एक चैप्टर त्यागी पर है। इस संबंध में त्यागी ने जवाब नहीं दिया है, और कहा कि फैसले की पूरी कॉपी पढ़ने के बाद ही कोई प्रतिक्रिया देंगे। त्यागी इस मामले में हमेशा खुद को निर्दोष बताते रहे हैं। त्यागी 2005-07 तक भारतीय वायु सेना के प्रमुख थे और उसी समय अगस्टा वेस्टलैंड खरीदारी की प्रक्रिया शुरू हुई थी।


भारत का फिनमेक्कनिका कंपनी से 12 अगस्टावेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीदने के लिए साल 2010 में 3600 करोड़ का कारोबार हुआ था। इसमें तीन हेलिकॉप्टर की आपूर्ति की जा चुकी थी और 30 प्रतिशत राशि का भुगतान हुआ था। अगस्टा हेलिकाॅप्टर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, उपराष्ट्रपति एवं अन्य वीवीआइपी के लिए उपयोग में लाये जाने थे। विवाद बढ़ने के बाद तीन हेलिकॉप्टर आने के बाद ही सौदा रद्द कर दी गयी।


अदालत ने बिचौलियों के पास जब्त हस्तलिखित दस्तावेज के आधार पर माना कि अगस्टा कंपनी ने अपने हेलिकॉप्टर बेचने के लिए भारत में करीब 125 करोड़ रुपये के घूस बांटे हैं। हालांकि कोर्ट के फैसले से यह स्पष्ट नहीं है कि घूस किसे दी गयी है। इस सौदे पर सीएजी ने भी सवाल उठाये थे।

भाजपा के सांसद किरीट सोमैया किरीट सोमैया ने आरोप लगाया है कि इस सौदे में कांग्रेस के नेताओं ने घूस की रकम खायी है। इस मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय से करायी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह पता लगाया जाना चाहिए कि यह रकम किसके-किसके खाते में गयी। कल भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने भी लोकसभा में यह मामला उठाया था।

Tags:    
Share it
Top