Home > अंतर्राष्ट्रीय > नेपाल के रास्ते चीन कर रहा है बिहार तक रेल नेटवर्क बिछाने की तैयारी?

नेपाल के रास्ते चीन कर रहा है बिहार तक रेल नेटवर्क बिछाने की तैयारी?

 Special News Coverage |  2016-05-24 10:54:07.0

Via Nepal China is doing preparation of laying the rail network to Bihar

चीन: नेपाल के रास्ते चीन कर रहा है बिहार तक रेल नेटवर्क बिछाने की तैयारी। इंडिया और साउथ एशिया से कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए चीन ऐसी कोशिश करने की सोच रहा है। नेपाल के रासुवगाधी क्षेत्र में सीमा पार रेलवे लाइन बिछाने को लेकर दोनों देशों के बीच पहले ही बातचीत हो चुकी है। सड़क के जरिए नेपाल और रेल नेटवर्क बिछाकर तिब्‍बत तक प्रभाव बढ़ाने वाले चीन ने दक्षिण एशियाई देशों से बेहतर जुड़ाव के लिए नया रेल ट्रैक बिछाने की योजना बनाई है।


चीनी सरकार के अनुसार, चीन की रेलवे लाइन 2020 तक रासुवगाधी पहुंंच जाएगी। इस रेलवे लाइन के बनने के बाद भारत से चीन का संपर्क बेहतर हो जाएगा। क्‍योंकि बिहार सीमा से सटे बीरगंज से रासवगाधी की दूरी सिर्फ 230 किलोमीटर है।

बिहार के लिए इस रेल लिंक के जरिए चीन से व्‍यापार करना आसान हो जाएगा। यह रूट कोलकाता के मुकाबले समय और दूरी की बचत करता है। नेपाल के साथ रेल और सड़क से चीन के जुड़ाव को देश में भारत का प्रभाव कम करने की रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। भारत और चीन के बीच करीब 70 बिलियन डॉलर का व्‍यापार होता है।

रेल और सड़क की ये सेवा नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बीजिंग दौरे के बाद शुरू हुई। वहां दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक रास्‍ते बनाने पर सहमति बनी। नेपाली अधिकारियों का कहना है चीन के साथ बनने वाला नया रूट भारत पर उसकी निर्भरता को कम करेगा। भारत फिलहाल नेपाल को माल सप्‍लाई करना वाला इकलौता देश है।

अगर ऐसा होता है तो बिहार के जरिए कोलकाता से ट्रेड तेजी से बढ़ेगा। इससे वक्त के साथ कास्ट और दूरी भी घटेगी। चीन से रेलरोड कनेक्शन न केवल नेपाल के लिए अहम है बल्कि नेपालियों के डेवलपमेंट के लिए भी जरूरी है। इससे पूरे साउथ एशिया में कनेक्टिविटी बढ़ेगी। नेपाल सरकार के पास इतिहास बनाने का मौका है।

Tags:    
Share it
Top