Home > राष्ट्रीय > अररिया पर चर्चा खूब लेकिन इस जगह पर पाकिस्तानी नारे पर चर्चा क्यों नहीं?

अररिया पर चर्चा खूब लेकिन इस जगह पर पाकिस्तानी नारे पर चर्चा क्यों नहीं?

जहाँ सच मे प्रो पाकिस्तानी नारे लगे उस पर कोई बात करने को तैयार नही है.

 शिव कुमार मिश्र |  2018-03-18 06:38:31.0  |  दिल्ली

अररिया पर चर्चा खूब लेकिन इस जगह पर पाकिस्तानी नारे पर चर्चा क्यों नहीं?

अररिया के मॉर्फ वीडियो पर दो दिनो तक मीडिया में खूब बहस हुई लेकिन जहाँ सच मे प्रो पाकिस्तानी नारे लगे उस पर कोई बात करने को तैयार नही है. जनसत्ता की खबर है कि जम्मू के नौशेरा कस्‍बे में एक पूर्व सैनिक, एक आर्मी कैंटीन चलाने वाले ओर, बाकी दो बीजेपी कार्यकर्ता, पर 8 मार्च को प्रो-पाकिस्‍तानी नारे लगाने के आरोप में देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ.

यहाँ पर कोई मुस्लिम एंगल नही है इसलिए किसी चैनल को किसी अखबार को यह बताने में कोई रूचि नही है कि आखिर वहाँ ऐसा क्यों किया गया, ओर न मंत्री गिरिराज सिंह ने इनके विषय मे बयान दिया.
हमको भेड़ो की मानिंद किसी भी बनावटी मुद्दे पर धकेल दिया जाता है और जैसे सियारों का दल हुआ हुआ करने लगता है वैसे ही सब सोशल मीडिया में हुआ हुआ करने लगते है. जैसे ही मामला थोड़ा सा ठंडा हुआ, बताया गया कि दरभंगा में किसी ने चौराहे का नाम मोदी चौक रख दिया इसलिए उसकी हत्या कर दी गयी. खुद सुशील मोदी ने कहा कि यह हत्या पुरानी रंजिश में की गयी, लेकिन फिर वही हुआ हुआ.
पता नही इन प्रायोजित मुद्दों को छोड़ कर कब ये लोग देश की मूल समस्याओं बेरोजगारी, व्यापार धंधो की लगातार खराब होती स्थिति और किसानों की समस्याओं जैसे आम जनमानस से जुड़े मुद्दों को समझेंगे.
गिरीश मालवीय की कलम से

Tags:    
Share it
Top