Home > राष्ट्रीय > पद्मावती विवाद पर वेंकैया नायडू का बयान, कहा- 'लोकतंत्र में हिंसक धमकियां स्वीकार्य नहीं'

पद्मावती विवाद पर वेंकैया नायडू का बयान, कहा- 'लोकतंत्र में हिंसक धमकियां स्वीकार्य नहीं'

देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का फिल्म 'पद्मावती' को लेकर जारी विवाद को लेकर बयान सामने आया है। वेंकैया नायडू का कहना है कि देश में इन दिनों...

 Vikas Kumar |  2017-11-25 12:30:43.0  |  New दिल्ली

पद्मावती विवाद पर वेंकैया नायडू का बयान, कहा- लोकतंत्र में हिंसक धमकियां स्वीकार्य नहीं

नई दिल्ली : देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का फिल्म 'पद्मावती' को लेकर जारी विवाद को लेकर बयान सामने आया है। वेंकैया नायडू का कहना है कि देश में इन दिनों कुछ फिल्मों और आर्टवर्क्स के विरोध की समस्या पैदा हुई है। धार्मिक भावनाओं के आहत होने के नाम पर विरोध किया जाता है, लेकिन कुछ लोग इस दौरान सीमा पार कर जाते हैं और इनामों का ऐलान करने लगते हैं।

हालांकि साफ तौर पर उन्होंने इस विवाद का जिक्र नहीं किया है, लेकिन सामान्य तौर से फिल्मों और कला का जिक्र करते हुए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने देश में कानून के राज के उल्लंघन के खिलाफ चेतावनी दी है।

शनिवार को टाइम्स लिटरेचर फेस्टिवल में वेंकैया नायडू ने सीधे पद्मावती मूवी का संकेत न करते हुए कहा कि देश में कानून के शासन को बनाए रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि हिंसक धमकियां देना और किसी को शारीरिक रूप से नुकसान पहुंचाने के लिए इनाम की घोषणा करना लोकतंत्र में स्वीकार्य नहीं है।

उन्होंने कहा कि, 'इन लोगों के पास इतना धन है भी या नहीं, मुझे संदेह है। सभी एक करोड़ रुपये इनाम की घोषणा कर रहे हैं। क्या एक करोड़ रुपये उपलब्ध होना इतना आसान है?' उन्होंने कहा, 'लोकतंत्र में यह स्वीकार्य नहीं है। आपको लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है, सक्षम प्राधिकार के पास जाएं.... आप शारीरिक अवरोध पैदा नहीं कर सकते और हिंसक धमकियां नहीं दे सकते। कानून के शासन का उल्लंघन ना करें।'

Tags:    
Vikas Kumar

Vikas Kumar

Special Coverage News Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top