Home > व्यवसाय > बड़ी खबर! वोडाफोन-आइडिया का हुआ विलय, बनी देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी

बड़ी खबर! वोडाफोन-आइडिया का हुआ विलय, बनी देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी

 Vikas Kumar |  2017-03-20 07:20:12.0  |  New Delhi

बड़ी खबर! वोडाफोन-आइडिया का हुआ विलय, बनी देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी

नई दिल्ली : टेलीकॉम सेक्टर में रिलायंस Jio के आने के बाद कंपनियों के बीच ग्राहकों को लुभाने की होड़ चल रही है। इस बीच एक बड़ी खबर आ रही है वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर में विलय का ऐलान हो गया। अब एक हुए आइडिया और वोडाफोन, बनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी।

कुमार मंगलम बिड़ला के स्वामित्व वाली देश की तीसरे नंबर की टेलिकॉम कंपनी आइडिया सेल्युलर बोर्ड ने वोडाफोन इंडिया लिमिटेड के साथ विलय को मंजूरी दे दी है। इस मंजूरी के बाद दोनों अब देश के सबसे बड़े टेलीकॉम प्रोवाइडर के तौर पर जाने जाएंगे।

ये हैं इस विलय की मुख्य बातें

कंपनी ने सोमवार को बताया कि इसके तहत वोडाफोन इंडिया और इसके पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी वोडाफोन मोबाइल सर्विसेज लिमिटेड और आदित्य बिड़ला ग्रुप के आइडिया सेल्युलर का विलय हो जाएगा और नई कंपनी भारती एयरटेल को पछाड़कर देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी बन जाएगी। रिपोर्ट की मानें तो नई कंपनी में वोडाफोन का 45% हिस्सा होगा, जबकि आइडिया की  26% हिस्सेदारी होगी।

एबी ग्रुप के पास नई कंपनी में 130 रुपए प्रति शेयर के भाव पर 9.5 % खरीदने का अधिकार होगा। रिपोर्ट की मानें तो कुछ समय बाद एबी ग्रुप और वोडाफोन का हिस्सा बराबर का होगा। वोडाफोन हिस्सा बराबर करने के लिए शेयर बेचेगी। इस विलय के ऐलान के बाद आइडिया के शेयरों में 2.5% का उछाल आ गया है।

बता दें कि आइडिया और वोडाफोन का मर्जर 2018 में पूरा होगा। इस मर्जर के लिए आइडिया सेल्युलर का वैल्युएशन 72,200 करोड़ रुपए आंका गया है, जबकि वोडाफोन का वैल्युएशन 82,800 करोड़ रुपए आंका गया है। इसके साथ ही, नई कंपनी के पास भारतीय बाजार के कुल 40 प्रतिशत मोबाइल सब्सक्राइबर्स होंगे। इतना ही नहीं, कुल आवंटित स्पेक्ट्रम का 25 प्रतिशत हिस्सा अकेले इसी कंपनी के पास होगा। ऐसे में इसे 1 प्रतिशत स्पेक्ट्रम बेचना होगा ताकि इसकी सीमा से जुड़े नियम का पालन हो सके।

दोनों के विलय से क्या होगा असर

पहले खबर ये आ रही थी कि रिलायंस Jio का मुकाबला करने के लिए दोनों का विलय होने वाला है। दोनों कंपनियों के विलय से जुड़े लोगों का मानना है कि देश में अभी तीन लाख से ज्यादा लोग टेलिकॉम इंडस्ट्री में नौकरी करते हैं। लेकिन टेलिकॉम इंडस्ट्री में अगले 18 महीने की विलय प्रक्रिया के दौरान 10,000 से 25,000 लोगों की नौकरी पर तलवार लटक रही है।

Tags:    
Vikas Kumar

Vikas Kumar ( 1300 )


Share it
Top