Home > धर्म समाचार > शरद पूर्णिमा कल, ऐसे करें पूजन अमृत के साथ बरसेगी लक्ष्मी की कृपा

शरद पूर्णिमा कल, ऐसे करें पूजन अमृत के साथ बरसेगी लक्ष्मी की कृपा

 Special Coverage News |  2016-10-14 12:22:43.0  |  नई दिल्ली

शरद पूर्णिमा कल, ऐसे करें पूजन अमृत के साथ बरसेगी लक्ष्मी की कृपा

नई दिल्ली: आश्विन मास की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। वैसे पूर्णिमा हर महीने में आती है, लेकिन शरद पूर्णिमा का महत्व उन सभी से कहीं अधिक है। इस बार शरद पूर्णिमा 15 अक्टूबर, शनिवार को मनाई जा रही है। इस दिन दान और स्नान का विशेष महत्व होता है। कुछ लोग इस दिन कोजागरी व्रत रखते हैं। इसलिए इसे कोजागरी पूर्णिमा भी कहा जाता है।

ऐसा माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा की किरणें विशेष अमृतमयी गुणों से युक्त
रहती हैं, जो कई बीमारियों का नाश कर देती हैं। यही कारण है कि शरद पूर्णिमा की रात को लोग अपने घरों की छतों पर खीर रखते हैं, जिससे चंद्रमा की किरणें उस खीर के संपर्क में आती है, इसके बाद उसे खाया जाता है।

पूर्णिमा के दिन सुबह में इष्ट देव का पूजन करना चाहिए। इन्द्र और महालक्ष्मी जी का पूजन करके घी के दीपक जलाकर उसकी गन्ध पुष्प आदि से पूजा करनी चाहिए। ब्राह्मणों को खीर का भोजन कराना चाहिए और उन्हें दान दक्षिणा प्रदान करनी चाहिए। लक्ष्मी प्राप्ति के लिए इस दिन जागरण करने वालों की धन-संपत्ति में वृद्धि होती है। रात को चन्द्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही भोजन करना चाहिए। मंदिर में खीर आदि दान करने का विधि-विधान है।

Tags:    
Share it
Top