Home > अंतर्राष्ट्रीय > "70 साल हो गए पर कोई भारतीय PM इजराइल नही आया, मेरे दोस्त मोदी इजराइल आ रहे है"

"70 साल हो गए पर कोई भारतीय PM इजराइल नही आया, मेरे दोस्त मोदी इजराइल आ रहे है"

70 years have passed but no Indian PM came to Israel, my friend Modi is coming to Israel

 शिव कुमार मिश्र |  2017-06-29 02:09:59.0  |  दिल्ली

70 साल हो गए पर कोई भारतीय PM इजराइल नही आया, मेरे दोस्त मोदी इजराइल आ रहे है

ये ट्वीट है इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू का, जो उन्होंने भारत के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की इज़राइल यात्रा से एक हफ्ते पहले किया है. आज जब सोशल मीडिया का इस्तेमाल दुनिया के राजनेता बाकी देशों को सन्देश देने के लिए करते है तो ये ट्वीट दुनिया के देशों को ये स्पष्ट सन्देश देता है कि भारत इज़राइल के लिए कितना महत्वपूर्ण है. इज़राइल, दुनिया के नक्शे में एक डॉट के बराबर दिखने वाला एक देश है. तीन इज़राइल मिलकर राजस्थान के बराबर भी नही होते.

इज़राइल धार्मिक रूप से इतना कट्टर देश है कि वहां रविवार को नाक साफ करने पर न केवल जुर्माना लग जाता है बल्कि जेल भी हो सकती है, बावजूद इसके आज उसके पास रूस, अमेरिका और चीन के बाद दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है, इज़राइल दुनिया के उन 9 देशों में शामिल है जिनके पास खुद का सेटेलाइट सिस्टम है जिसकी सहायता से वो ड्रोन चलाता है, अपनी सेटेलाइट टेक्नोलॉजी इज़राइल किसी देश के साथ शेयर नही करता. इज़राइल दुनिया का एकमात्र देश है जो एंटी बैलिस्टिक मिसाइल डिफेंड सिस्टम से पूरी तरह लैस है. इज़राइल की ओर आने वाली हर मिसाइल न सिर्फ रास्ते मे मार गिराई जाती है बल्कि एक मिनट के भीतर मिसाइल दागने वाली जगह की पहचान कर इज़राइल जवाबी मिसाइल दाग कर सब कुछ तहस नहस कर देता है. नागरिकता को लेकर इज़राइल की स्पष्ट नीति है कि दुनिया के किसी भी हिस्से में रहने वाले यहूदी को इज़राइल अपना नागरिक मानता है. हाँ, यहूदी होने के लिए आपके माँ और पिता दोनों का यहूदी होना अनिवार्य है. हैरानी की बात है कि जिस कौम की धार्मिक किताब दुनिया भर की धार्मिक किताबों में सबसे ज्यादा खून खराबे का आदेश देती है, वो कौम नोबल पुरस्कारों में डंका पीट देती है. आखिर ऐसा क्या है यहूदियों में जो न केवल आज दुनिया का सत्तर प्रतिशत कारोबार यहूदियों के हाथ मे है बल्कि अपनी सैन्य शक्ति से वो पूरी दुनिया मे अपनी ताकत का लोहा मनवाते है.



इज़राइल की औरतें जिनके लिए आर्मी ट्रेनिग अनिवार्य है, उनकी सोच सिर्फ यहूदी बच्चे पैदा करना नही होती, वो फोकस करती है एक योद्धा, एक बिजनेसमैन, एक कामयाब और जहीन इंसान पैदा करने पर और ये सोच सिर्फ उसकी नही पूरी कौम, पूरे इज़राइल राष्ट्र की होती है. एक कामयाब इंसान पैदा करने की शुरुवात वो उसी वक्त से कर देती है जब उन्हें गर्भ ठहरने का आभास होता है. प्रेग्नेंसी के दौरान यहूदी औरतें अपने लाइफ पार्टनर के साथ गणित के सवाल हल करती है. इसे मेंटल मैथ टेकनिक बोला जाता है जिसमे सवालो को बोल बोल के हल किया जाता है... गर्भावस्था के दौरान उनका ज्यादातर वक्त गीत संगीत के बीच एक रिलैक्स इनवायरमेंट में बीतता है.

दुनियाभर में सिगरेट के सभी बड़े ब्राण्ड भले ही इज़राइली कम्पनियो के हो लेकिन आप किसी गर्भवती महिला के घर के आसपास भी सिगरेट नही पी सकते. उनका मानना है कि सिगरेट होने वाले बच्चे के डीएनए और जीन्स को खराब कर सकती है. बच्चों को जंकफूड देने की सख्ती से मनाही होती है , उन्हें कार्टून, क्रिकेट,फुटबाल के बजाय तीरंदाज़ी और शूटिंग जैसे खेल खिलाए और सिखाए जाते है. उनका मानना है कि तीरंदाज़ी और शूटिंग जैसे खेल बच्चों में सही फैसले लेने की सलाहियत पैदा करते है. स्कूल में भर्ती करने से पहले ही माँ बाप बच्चों को प्रैक्टिकली कारोबारी मैथ सिखाते है, मसलन 3 रुपए का एक अंडा है 5 अंडे खरीदे 20 रुपए दिए तो कितने पैसे बचे. बच्चों को धार्मिक या अन्य विषयों से इतर साइंस पढ़ने के लिए ज्यादा प्रेरित किया जाता है. पढ़ाई के आखिरी सालों में डिग्री कालेजो में कारोबार स्टडी के लिए उनके ग्रुप बना कर उन्हें टास्क दिए जाते है और सिर्फ उसी ग्रुप के बच्चे पास किए जाते है जो कम से कम 10,000 डॉलर का मुनाफा कमाने में सफल हो जाए, इससे कम मुनाफे वालो को डिग्री नही दी जाती.


न्यूयार्क में इनका एक सोशल सेट अप सेंटर है जो यहूदियों को बिज़नेस के लिए बिना ब्याज के लोन प्रोवइड कराते है. मेडिकल साइंस के स्टूडेंट को नौकरी करने के बजाय प्राइवेट प्रैक्टिस के लिए सेटअप उपलब्ध कराया जाता है, इसिलए पूरी दुनिया मे यहूदी डॉक्टर्स आपको नौकरी में रेयर ही मिलेंगे. इज़राइल के नागरिक नौकरी नही करते, दुनियां के लोगो को नौकरी देते है. इज़राइल सिर्फ एक देश एक कौम नही, ये एक इंफ्रास्ट्रक्चर एक सोच है जो नस्ल दर नस्ल आगे बढ़ाई जाती है. दुनियां को इनसे सीखने की जरूरत है, खासकर उनको जो इज़राइल के नाम से ही आंखों में थूक चुपड़ के रोने का नाटक करने लगते है. सोचिए और सीखिए कैसे एक छोटी सी कम्युनिटी धार्मिक रूप से कट्टर होते हुए भी पूरी दुनिया पर छाई है.

Zoya Mansoori

Tags:    
शिव कुमार मिश्र

शिव कुमार मिश्र

Special Coverage News Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top