Home > अंतर्राष्ट्रीय > भारतीय IT कंपनियों के लिए बुरी खबर, अमेरिकी संसद में पास हुआ H-1B वीजा बिल

भारतीय IT कंपनियों के लिए बुरी खबर, अमेरिकी संसद में पास हुआ H-1B वीजा बिल

 Special Coverage News |  2017-01-31 11:58:44.0  |  नई दिल्ली

भारतीय IT कंपनियों के लिए बुरी खबर, अमेरिकी संसद में पास हुआ H-1B वीजा बिल

नई दिल्ली : राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ताजपोशी के बाद उठाए गए सबसे बड़े कदमों में से एक H-1B वीजा बिल अमेरिकी संसद में पेश हो गया है। इससे भारतीय IT कंपनियों के लिए यह बुरी खबर है। वही भारतीय विदेश मंत्रालय ने एच 1 बी वीजा के मुद्दे पर कहा है कि भारत के हितों और चिंताओं से अमेरिकी प्रशासन और अमेरिकी कांग्रेस दोनों के वरिष्ठ स्तरों को अवगत करा दिया गया है। इस बिल के तहत H-1B वीजाधारकों के न्यूनतम वेतन को दोगुना करके एक लाख 30 हजार अमेरिकी डॉलर करने का प्रस्ताव किया गया है।

बतादे की, H-1B वीजा एक नॉन-इमीग्रेंट वीजा है जिसके तहत अमेरिकी कंपनियां विदेशी एक्सपर्ट्स को अपने यहां रख सकती हैं। H-1B वीजा दक्ष पेशेवरों को दिया जाता है, वहीं L1 वीजा किसी कंपनी के कर्मचारी के अमेरिका ट्रांसफर होने पर दिया जाता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक करीब 86% भारतीयों को H-1B वीजा कंप्यूटर और 46.5% को इंजीनियरिंग पोजीशन के लिए दिया गया है। अमेरिका हर साल 85 हजार लोगों को H-1B वीजा देता है। इनमें से करीब 20 हजार अमेरिकी यूनिवर्सिटीज में मास्टर्स डिग्री करने वाले स्टूडेंट्स को जारी किए जाते हैं।

Tags:    
Share it
Top