Home > अंतर्राष्ट्रीय > मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र से खफा भारत-UNSC से कहा- 9 महीने से सिर्फ सियासत हुई

मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र से खफा भारत-UNSC से कहा- 9 महीने से सिर्फ सियासत हुई

 alok mishra |  2016-11-08 07:40:55.0  |  New delhi

मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र से खफा भारत-UNSC से कहा- 9 महीने से सिर्फ सियासत हुई

भारत ने अपने ही हाथों आतंकवादी संगठन घोषित किए गए समूहों के नेताओं को प्रतिबंधित करने में महीनों लगाने पर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की तीखी आलोचना की है। उसका यह एतराज पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया पर प्रतिबंध लगाने की भारत की कोशिश को 'तकनीकी आधार पर' खटाई में डालने पर था।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने कल यह कहते हुए आतंकवादी संगठनों के नेताओं पर प्रतिबंध लगाने में विफलता पर परिषद को लताड़ते हुए कहा कि सुरक्षा परिषद अपने ही 'समय के जाल और सियासत' में फंस गई है।

अकबरूद्दीन ने सुरक्षा परिषद के समतामूलक प्रतिनिधित्व और सदस्यता में वृद्धि पर आयोजित एक सत्र को संबोधित करते हुए कहा, 'जहां हर दिन इस या उस क्षेत्र में आतंकवादी हमारी सामूहिक अंतरात्मा आहत करते हैं, सुरक्षा परिषद ने इसपर विचार करने में नौ माह लगाए कि क्या अपने ही हाथों आतंकवादी इकाई करार दिए गए संगठनों के नेताओं पर प्रतिबंध लगाया जाए या नहीं।' इस से पहले, इसी साल चीन ने संयुक्त राष्ट्र में अजहर को आतंकवादी ठहराने के भारत के कदम पर 'तकनीकी स्थगन' लगा दिया था। तकनीकी स्थगन की छह माह की मुद्दत सितंबर में खत्म हो गई थी और चीन ने तीन माह का एक दूसरा स्थगन चाहा था।

पहली तकनीकी अड़चन के बाद दोबारा इसकी मियाद बढ़ाने पर चीन ने कहा कि भारत की अर्जी में अभी भी दिक्कत है।
कहा, ''रोक आगे बढ़ने के बाद 1267 कमेटी को इस मसले पर चर्चा के लिए और वक्त मिलेगा, संबंधित पक्षों फिर से बात कर सकेंगे।''
''हम हर तरह के आतंकवाद का विरोध करते हैं। लेकिन सबके लिए पैमाना एक होना चाहिए, किसी भी राष्ट्र को सियासी फायदा उठाने की कोशिशों का विरोध करेंगे।''

आतंकी घोषित होने पर क्या होगा ?

अजहर मसूद को आतंकियों के लिए लिस्ट में डाला जाता है तो यह भारत के लिए कामयाबी होगी।
अजहर मसूद की प्रॉपर्टी जब्त की जा सकेगी। वह खुलेआम पाकिस्तान में रैलियां नहीं कर सकेगा, जैसा कि अभी वह करता है।
एक देश से दूसरे देश की आवाजाही पर रोक होगी। बता दें कि जैश-ए-मोहम्मद पर पहले से ही बैन लगा है।

Tags:    
Share it
Top