Home > अंतर्राष्ट्रीय > महात्मा गांधी को नोबेल शांति पुरस्कार नहीं मिलना, पुरस्कार समिति ने बताया बड़ी चूक

महात्मा गांधी को नोबेल शांति पुरस्कार नहीं मिलना, पुरस्कार समिति ने बताया बड़ी चूक

 Special Coverage News |  2016-10-02 07:50:04.0  |  नई दिल्ली

महात्मा गांधी को नोबेल शांति पुरस्कार नहीं मिलना, पुरस्कार समिति ने बताया बड़ी चूक

नई दिल्ली: अगले दो हफ्तों में नोबेल पुरस्कारों की घोषणा होने वाली है। नोबेल पुरस्कारों को वापस नहीं लिया जा सकता है, इसलिए इस पुरस्कार के विजेता के चयन के लिए निर्णायकों को बहुत अधिक सोच विचार करना पड़ता है। नोबेल पुरस्कारों के जनक अल्फ्रेड नोबेल चाहते थे कि इस पुरस्कार से ऐसे लोगों का सम्मान किया जाए जिनके आविष्कार और काम की वजह से समाज में महान परिवर्तन आया हो।

लेकिन कई बार ऐसा भी हुआ जब पुरस्कार पर सवाल भी उठे। पूरी दुनिया में महात्मा गांधी को अहिंसा के सबसे बड़े पुजारी के रूप में जाना जाता है। गांधी को नोबेल के शांति पुरस्कार के लिए पांच बार नामित किया गया लेकिन उन्हें कभी यह पुरस्कार नहीं दिया गया। शांति पुरस्कार समिति भी यह बात स्वीकार कर चुकी है कि महात्मा गांधी को शांति पुरस्कार नहीं देना एक चूक थी।

Tags:    
Share it
Top