Home > राष्ट्रीय > पीएम मोदी ने ISRO के वैज्ञानिकों को दी बधाई, डिजिधन-किसान और ग़रीबों के बारे में की 'मन की बात'

पीएम मोदी ने ISRO के वैज्ञानिकों को दी बधाई, डिजिधन-किसान और ग़रीबों के बारे में की 'मन की बात'

 Arun Mishra |  2017-02-26 05:57:45.0  |  नई दिल्ली

पीएम मोदी ने ISRO के वैज्ञानिकों को दी बधाई, डिजिधन-किसान और ग़रीबों के बारे में की

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशवासियों को आज 29वीं बार रेडियो के जरिये 'मन की बात' कर रहे हैं। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने बसंत की शुभकामनाएं दी। पीएम ने कहा कि पिछले दिनों इसरो ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में रेकॉर्ड बनाया, विभिन्न देशों के 104 सैटलाइट लॉन्च किए। इसके लिए मैं इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई देता हूं। हमारे सैटलाइट से कृषि के क्षेत्र में मदद मिलेगी। गर्व है कि इस कार्यक्रम का नेतृत्व युवा महिला वैज्ञानिक ने किया। भारत ने बैलिस्टिक मिसाइल का सफल प्रक्षेपण किया जो जमीन से 100 किलोमीटर की ऊंचाई पर दुश्मन के मिसाइल को ढेर कर देते हैं। दुनिया के 3-4 देशों के पास ही यह महारत है। विज्ञान को जनसामान्य के लिए उपयोगी बनाना आवश्यक है।

पीएम मोदी ने कहा कि कोई भी प्राकृतिक संकट आता है तो पहले गरीब पर आता है। दो वैज्ञानिकों ने ऐसे घर बनाए जो कई आपदाओं से घर को बचाता है।डिजि धन योजना के तहत 1500 करोड़ से ज्यादा रकम के इनाम दिए जा चुके हैं। मैं देशवासियों से डिजि धन व्यापार योजना के तहत इनाम पाने वालों से अपील करता हूं कि आप स्वयं ऐम्बेसडर बनिए।

प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र की पूजा नेवाड़ी का संदेश पढ़ा। उन्होंने कहा कि भीम ऐप से गांव और शहरों में बड़ी सफलता मिली है। बाबा साहेब की जयंती पर बड़ा लकी ड्रॉ होगा। आप भीम ऐप डाउनलोड करना सिखाएं और इसको चलाना सिखाएं। हमारे किसान भाइयों-बहनों ने कड़ी मेहनत करके अन्न के भंडार भर दिए हैं। सारे रेकॉर्ड तोड़ दिए हैं। अपील है कि किसान अलग अलग फसलों के साथ दालों का भी उत्पादन करें।

मन की बात में पीएम मोदी ने आगे कहा मेरी एक विनती को देश के किसानों ने सिर आंखों पर बैठाकर मेहनत की और दालों का रेकॉर्ड उत्पादन किया इसके लिए उनका धन्यवाद है। देश के किसानों ने ग़रीबों की आवाज़ सुनी और क़रीब-क़रीब दो सौ नब्बे लाख हेक्टेयर धरती पर भिन्न-भिन्न दालों की खेती की। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अकाउंट खोले गए हैं। जिला प्रशासन द्वारा अनाथ बच्चियों को गोद लेना, इसके भी प्रयास हो रहे हैं। राजस्थान में अपना बच्चा अपना स्कूल अभियान चलाया। दिव्यांग भाई-बहन सामर्थ्यवान,दृढ़-निश्चयी होते हैं,साहसिक होते हैं,संकल्पवान होते हैं, हर पल हमें उनसे कुछ-न-कुछ सीखने को मिल सकता है।

तेलंगाना में अधिकारियों ने स्वयं टॉइलट की सफाई कर लोगों को दिखाया और नई तकनीक का इस्तेमाल सिखाया। सिद्ध हो चुका है कि छह सदस्यीय परिवार के लिए ट्विन पिट टॉइलट उपयोगी है। यह 5 साल में भर जाता है तो आसानी से खाली किया जा सकता है और खाद के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। मार्च महीने के पहले पखवाड़े में 3 मंत्रालय और दूसरे पखवाड़े में 3 मंत्रालय स्वच्छता को आगे बढ़ाएंगे। महिला वह शक्ति है, सशक्त है, भारत की नारी है। न ज्यादा में, न कम में, सब में बराबर की अधिकारी है।
 
पीएम मोदी ने कहा कि इसी महीने आयोजित ब्लाइंड टी20 वर्ल्ड कप में हमारी टीम ने गौरव बढ़ाया। हमें दिव्यांग खिलाड़ियों पर गर्व है। इसी महीने आयोजित ब्लाइंड टी20 वर्ल्ड कप में हमारी टीम ने गौरव बढ़ाया। हमें दिव्यांग खिलाड़ियों पर गर्व है। पिछले कुछ दिनों में एशियाई Rugby Sevens Trophy हमारी महिला खिलाड़ियों ने silver medal जीता।

Tags:    
Share it
Top