Home > राष्ट्रीय > गुजरात और हिमाचल में होगा 100% VVPAT मशीनों का इस्तेमाल- चुनाव आयोग

गुजरात और हिमाचल में होगा 100% VVPAT मशीनों का इस्तेमाल- चुनाव आयोग

चुनाव आयोग के एलान से सभी दल होंगे खुश

 शिव कुमार मिश्र |  2017-07-10 03:28:00.0  |  दिल्ली

गुजरात और हिमाचल में होगा 100% VVPAT मशीनों का इस्तेमाल- चुनाव आयोग


नई दिल्ली: चुनाव आयोग अब इलेक्शन में 100 फीसदी वीवीपैट (वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल) की व्यवस्था शुरू करने की तैयारी में जुटा है। आयोग इस तैयारी में है कि सभी विधानसभाओं या लोकसभा सीटों की कुछ निश्चित पोलिंग स्टेशनों पर वीपीपैट स्लिप्स की भी गिनती की जाए। हालांकि चुनाव आयोग ने अपने शुरुआती आकलन में कहा है कि इससे चुनाव नतीजों के ऐलान में तीन घंटे तक की देरी हो सकती है।
आयोग के सूत्रों के मुताबिक पूरी तरह वीवीपैट पर आधारित चुनाव और कुछ पोलिंग स्टेशनों पर स्लिप्स की गिनती को लेकर गठित की गई समिति कई पहलुओं पर विचार कर रही है। यह समिति इस बात पर भी विचार कर रही है कि इन पर्चियों की गिनती कब की जाए।
इलेक्शन कमिशन के एक अधिकारी ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, 'यदि इनकी गिनती पहले की जाए, जैसे कि पोस्टल बैलट्स की होती है, तो फिर पहला रुझान 11 बजे से पहले नहीं आ पाएगा। फिलहाल ईवीएम पर गिनती शुरू होने के आधे घंटे के भीतर ही रुझान आने शुरू हो जाते हैं।'

आयोग के अधिकारी ने कहा कि पैनल इस बात पर भी विचार कर रहा है कि रुझान आने में यदि 11 बजे तक की देरी हो गई तो प्रतिद्वंद्वी पार्टी के वर्कर्स के बीच काउंटिंग सेंटर्स पर भिड़ंत भी हो सकती है।
अधिकारी ने कहा, 'यदि इन पेपर स्लिप्स की गिनती ईवीएम काउंट के बाद की जाए तो फिर चुनाव नतीजे के ऐलान में 3 घंटे तक की देरी हो जाएगी।' चुनाव परिणाम में तीन घंटे की देरी का आकलन इस बात से लगाया जा रहा है कि मैन्युअल काउंटिंग का एक राउंड इतनी देर में पूरा होता है।

उम्मीद की जा रही है कि चुनाव आयोग वीवीपैट को लेकर गाइडलाइंस जल्दी ही जारी कर सकता है। इस साल के अंत तक गुजरात और हिमाचल प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों में इनकी शुरुआत की जा सकती है।

चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा, 'हम नियमों में संशोधन करने नहीं जा रहे हैं। इससे प्रक्रिया की बहुत लंबी हो जाएगी।' चुनाव आयोग की ओर से गठित समिति एक सीट में 4 से 5 पोलिंग स्टेशनों पर पेपर स्लिप्स की गिनती के पक्ष में है।

हालांकि आम आदमी पार्टी 25 पर्सेंट बूथों पर इस तरह की गिनती चाहती है। आयोग के अधिकारी ने कहा, 'यह अव्यवहारिक है। इससे काउंटिंग में देरी होगी और नतीजे भी 26 घंटे की देरी से घोषित हो सकेंगे।'

Tags:    
शिव कुमार मिश्र

शिव कुमार मिश्र

Special Coverage News Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top