Home > विज्ञान > बरमूडा ट्राएंगल के रहस्य से उठा पर्दा, 100 साल में ले चुका 1000 लोगों की जान

बरमूडा ट्राएंगल के रहस्य से उठा पर्दा, 100 साल में ले चुका 1000 लोगों की जान

 Special Coverage News |  2016-10-23 06:45:00.0  |  वॉशिंगटन

बरमूडा ट्राएंगल के रहस्य से उठा पर्दा, 100 साल में ले चुका 1000 लोगों की जान

वॉशिंगटन: दुनिया की सबसे रहस्यमयी जगह बरमूडा ट्राएंगल का रहस्य सुलझाने का साइंटिस्ट्स ने दावा किया है। बरमूडा ट्राएंगल वो इलाका है जिसके आस-पास से गुजरने वाली पानी का जहाज़ हो या हवाई जहाज़, वो हमेशा के लिए ग़ायब हो गया। 1000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। बरमूडा ट्रायंगल 1609 में पहली बार तब चर्चा में आया। जब यहां से गुजर रहा अंग्रेज़ी जहाज द सी वेंचर्स अचानक ही ग़ायब हो गया था।

साइंटिस्ट्स ने दावा किया है कि बरमूडा ट्रेंगल में बेहद भारी चीजों को अपनी ओर खींच लेने की ताकत बादलों की
हेक्सागोनल शेप
की वजह से आती है। बता दें कि बरमूडा ट्राएंगल अटलांटिक ओशन में 5 लाख स्क्वायर किलोमीटर का एक हिस्सा है। पिछले 100 साल में इसमें 75 एरोप्लेन और 100 से ज्यादा छोटे-बड़े जहाज समा चुके हैं।

कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के मेट्रोलॉजिस्ट रैंडी कैरवेनी के मुताबिक यह बादल 'एयर बम' बनाते हैं। यानी हवा में बम ब्लास्ट जैसी ताकत पैदा करते हैं। इनके साथ 170 मील (करीब 273 किलोमीटर)/घंटा की रफ्तार वाली हवाएं होती हैं। ये बादल और हवाएं आपस में मिलकर जब जहाज या एरोप्लेन से टकराते हैं और उन्हें खींचकर समुद्र के तल में ले जाते हैं।

Tags:    
Share it
Top