Home > राज्य > अहमदाबाद दलित रैली :दलितों ने कहा अब हमें दो बन्दूक

अहमदाबाद दलित रैली :दलितों ने कहा अब हमें दो बन्दूक

 Special Coverage News |  2016-08-01 10:24:48.0  |  New Delhi

अहमदाबाद दलित रैली :दलितों ने कहा अब हमें दो बन्दूक

उना में हुई दलितों की पिटाई के विरोध में गुजरात के गिर-सोमनाथ जिले में रविवार को दलितों ने विशाल रैली निकाली. हजारों की संख्या में पहुंचे दलित समुदाय के लोगों मृत पशुओं के शव को नहीं उठाने और सफाई का कामकाज नहीं करने का संकल्प लिया. इस रैली में उपस्थित नेताओं ने कहा कि अगर दलितों पर अत्याचार नहीं रुका तो अगले साल गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव में वे अपनी ताकत दिखाएंगे.

गुजरात में ऐसा पहली बार हुआ है जब पूरे राज्य से 30 दलित समूह दशकों से मौजूद समस्याओं के खिलाफ एक साथ जुटे हैं। इन लोगों ने उना दलित अत्याचार लाडात समिति के बैनर तले यह रैली की, जिसके संयोजक जिग्नेश मेवानी हैं। मेवानी वकील हैं, जो दलितों के लिए कई अदालतों में मुकदमा लड़ रहे हैं।

गुजरात के दलित नेताओं ने सरकार से ये मांग की है जो इस प्रकार है |

ऊना के अभियुक्तों को यदि ज़मानत भी मिले तो उन्हें 5 जिलों से बाहर रखा जाए.

आंदोलन करने वाले बेगुनाह दलितों पर दर्ज फर्जी मुकदमे वापस लिए जाएं.

ऊना की घटना के वीडियो में हमलावरों की पहचान संभव है. इसमें पुलिस की भूमिका संदेहास्पद है इसलिए पुलिसवालों के ख़िलाफ़ दलित उत्पीड़न के तहत मुकदमा दर्ज हो.

चार साल पहले सूर्यनगर जिले में एक शहर में तीन दलित लड़कों की हत्या के मामले में फ़रार अभियुक्त को गिरफ्तार किया जाए.

गुजरात के सारे जिलों में अनुसूचित जाति- जनजाति कानून के तहत मामले चलाने के लिए विशेष अदालतें बनाई जाएं.

मरे हुए पशुओं को उठाने का काम छोड़ने वाले दलितों और भूमिहीन दलितों को सरकारी कोटा से 5-5 एकड़ जमीन दी जाए.

सभी दलित सफाईकर्मियों को छठे वेतन आयोग का लाभ दिया जाए और उनकी नौकरी पक्की की जाए.

अहमदाबाद के तीन मुसलमान नेताओं ने इस रैली में भाग लिया और मंच पर बैठे। रैली में कई मुसलमान कार्यकर्ताओं को देखा जा सकता था। 30 दलित संगठनों के संयुक्त मोर्चा के संयोजक जिग्नेश मेवानी ने कहा, "सरकार हमें अपनी रक्षा के लिए अनिवार्य रूप से आग्नेयास्त्र रखने का लाइसेंस दे क्योंकि सरकार हमें सुरक्षा मुहैया कराने में नाकाम रही है।"

उन्होंने कहा, "हम लोगों ने बहुत सह लिया। यदि ऊंची जाति के शोषकों ने हमें फिर उत्पीड़ित किया तो हम उनके हाथ-पैर तोड़ देंगे।" उन्होंने कहा कि सरकार को दलितों को मार्शल आर्ट सिखाने में भी मदद करनी चाहिए।


Tags:    
Share it
Top