Home > राज्य > सुनी नहीं थी 100 करोड़ डर जाएं 20 करोड़ मुल्‍लों से

सुनी नहीं थी 100 करोड़ डर जाएं 20 करोड़ मुल्‍लों से

 Special Coverage News |  2016-07-07 11:34:39.0  |  New delhi

सुनी नहीं थी 100 करोड़ डर जाएं 20 करोड़ मुल्‍लों से

नई दिल्ली
मोदी सरकार में नई राज्‍यमंत्री बनाई गईं यूपी के मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल अपने दो क‍थित ट्वीट्स को लेकर विवादों के घेरे में हैं। अपना दल की नेता अनुप्रिया पर आरोप है कि उन्‍होंने अपने अकाउंट से 13 जून 2016 को #UPWillChange हैशटैग के साथ दो सांप्रदायिक ट्वीट किए थे।

बताया जा रहा है कि दोनों ट्वीट डिलीट कर दिए गए हैं। अनुप्रिया के मंत्री बनने के बाद सोशल मीडिया पर उनके कथित ट्वीट्स वायरल हो गए हैं। अनुप्रिया ने कथित तौर पर ट्वीट में लिखा था, "अखलाक पर करोड़ों न्‍योछावर लेकिन कैराना के हिंदुओं के लिए दो बोल तक नहीं!! वाह रे नमाजवादी सरकार।"


उसी दिन अपना दल के संस्‍थापक सोनेलाल पटेल के जन्‍म‍दिन पर 'हुंकार रैली' आयोजित की गई थी। कथित तौर पर अनुप्रिया ने दूसरे ट्वीट में लिखा, "हमें बर्बाद कर दिए अपने ही गद्दारों ने वर्ना कभी सुनी नहीं थी 100 करोड़ डर जाएं 20 करोड़ मुल्‍लों से।"



दोनों ट्वीट डिलीट कर दिए गए थे मगर मंगलवार को मंत्री पद की शपथ लेने के बाद अनुप्रिया के ये कथित ट्वीट Twitter पर शेयर होने लगे।


स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव ने ट्वीट किया, "अगर ये सही हैं तो अनुप्रिया पटेल को भारत के कैबिनेट में रहने का कोई हक नहीं है। नफरत वाले भाषण और क्‍या होते हैं?"




आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने ट्ववीट किया है, "अनुप्रिया पटेल ने अब भाजपा का सांप्रदायिक कार्ड खेलने वाले ट्वीट डिलीट कर दिए हैं, यह दिखाता है कि उन्‍हें यूपी चुनाव से पहले मंत्री क्‍यों बनाया गया है।






Tags:    
Share it
Top