Home > राज्य > सपाई गुंडों का कहर, कब्जे को लेकर हुआ खुनी संघर्ष

सपाई गुंडों का कहर, कब्जे को लेकर हुआ खुनी संघर्ष

 Special Coverage News |  2016-07-07 09:34:05.0  |  लखनऊ

सपाई गुंडों का कहर, कब्जे को लेकर हुआ खुनी संघर्ष

प्रदेश की राजधानी में सपाई गुंडों और भू-माफियाओं के हौसले इतने बुलंद हैं कि वह भूअभिलेखों में दर्ज जमीन को भी कब्जा करने से बाज नहीं अा रहे हैं। इन दबंग भू-माफियाओं को अवैध कब्जे और निर्माण में पुलिस और जिला प्रशासन का खुला संरक्षण प्राप्त है शायद इसी के चलते इन पर कार्यवाई करने में अधिकारी घुटने टेक रहे हैं।


ऐसा ही एक मामला चिनहट इलाके में प्रकाश में अाया है जहां दबंग जिला पंचायत सदस्य और ग्राम प्रधान ने हिष्ट्रीशीटर समेत 100 से अधिक गुंडों के साथ मिलकर पीडितों को असलहों की बट, कुंदों, लाठी-डंडों और धारदार हथियारों से कातिलाना हमला कर दिया।


इस हमले में करीब एक दर्जन महिला और पुरुष गंभीर रूप से घायल हो गए इसमें एक की हालत बेहद गंभीर है जिसे ट्रामा में भर्ती कराया गया है। सूचना के बाद घंटों देर से पहुंची पुलिस गुंडों के साथ खड़ी नजर अाई। पीड़ित जब एसएसपी अवास उनसे मिलने गए तो मंजिल सैनी नहीं मिली इस दौरान पीड़ित वहीं सड़क पर घंटों पड़े रहे लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। अरोप है अब दबंग पीड़ित को जमीन में जिंदा दफनाने की धमकी के साथ गांव को खाली करा रहे हैं। फिलहाल गांव में तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस और पीएसी तैनात कर दी गई है।


पीड़ितों ने बताया सुबह जिलापंचायत सदस्य विजय बहादुर यादव, ग्राम प्रधान मनोज यादव और हिष्ट्रीशीटर रघुनंद कलिया सहित सौ-डेढ़ सौ गुंडों के साथ गांव खाली कराने पहुंचे और पीडितों पर असलहों की बट, कुंदों, लाठी-डंडों, फावड़े और बांके से हमला कर दिया। हमले में वीरबल (55), बहन मंगला देवी (50), संतोष उर्फ गुड्डू (35), पत्नी पप्पी देवी (32), दिनेश सिंह (35), इंदल की पत्नी सोभा देवी (33), केती देवी (36), बसंतलाल (28), अनुज कुमार (25), राधा देवी (32) और राममूर्ति (30) घायल हुए हैं इसमें अनुज की हालत बेहद गंभीर है जिसे ट्रामा में भर्ती कराया गया है।



Tags:    
Share it
Top