Home > राज्य > जयपुर नगर निगम की बैठक में हंगामा, कांग्रेसी पार्षद ने महापौर पर फेंकी चप्पल

जयपुर नगर निगम की बैठक में हंगामा, कांग्रेसी पार्षद ने महापौर पर फेंकी चप्पल

 Vikas Kumar |  2016-10-19 06:17:10.0  |  Jaipur

जयपुर नगर निगम की बैठक में हंगामा, कांग्रेसी पार्षद ने महापौर पर फेंकी चप्पल

जयपुर: जयपुर नगर निगम के जनप्रतिनिधियो ने मंगलवार को दो दिन चलने वाली साधारण सभा की बैठक में सदन की गरिमा को को तार-तार कर दिया। जयपुर नगर निगम साधारण सभा में शहरी विकास और सफाई के मुद्दे पर चर्चा कम और हंगामा ज्यादा दिखा। बैठक में कांग्रेसी पार्षदों ने सदन में हंगामा करते हुए पहले जूते और चप्पल दिखाई और एक महिला कांग्रेसी पार्षद ने महापौर पर चप्पल तक फेंक डाली। हालांकी गनीमत रही की चप्पल महापौर के आसन तक ही पहुंची।

बात तब बिगड़ी जब वार्ड 19 के पार्षद मान पंडित ने बोलना शुरू किया, उन्होंने शहर की खराब दशा के लिए कांग्रेस को दोषी ठहराया और कहा कि, 'अगर मैं आपके बाप दादाओं पर आऊंगा तो शर्म आएगी।' मान पंडित के इस बयान पर कांग्रेस के पार्षद बिफर गए। नाराज कांग्रेसी अपनी सीटें छोड़कर मान पंडित की ओर की ओर दौड़ पड़े। हाथों में जूते-चप्पल लेकर वेल में घुस गए। यह देख भाजपा पार्षद भी खड़े हो गए और सभा भवन अखाड़े में बदल गया। कुछ
पार्षदों
ने जूते-चप्पल लहराए। धक्का-मुक्की और हाथापाई हो गई। सुरक्षाकर्मी वेल में दोनों पक्षों के बीच में दीवार की तरह खड़े हो गए। इसी बीच कांग्रेसी पार्षद लक्ष्मण दास मोरानी ने भाजपा पार्षदों को मारने के लिए जूता उठा लिया। यह देख कांग्रेसी पार्षद सांगानेर के वार्ड 39 की पार्षद सुमन गुर्जर ने भी अपनी चप्पल को उछाला तो लेकिन चप्पल मेयर के सामने जा गिरी।

उसके बाद मेयर ने सबको चैंबर में बुलाया। फिर
मान
पंडित के माफी मांगने के बाद सभा दोबारा शुरू हुई। मान पंडित ने साफ किया किया 'बाप दादाओं' से उनका मतलब कांग्रेस पार्षद के रिश्तेदार नहीं बल्कि नगर निगम में रहे कांग्रेस के पूर्व पार्षदों की ओर था। ज़ाहिर है कि दो दिन चलने वाले जयपुर नगर निगम की साधारण सभा में शहर के विकास के लिए कोई ठोस कदम तो नहीं उठाये गए लेकिन इस तरह का ड्रामा ज़रूर हुआ। वहीं अब उस पार्षद के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी उठने लगी है। महापौर निर्मल नाहटा तो इस प्रकरण पर ज्यादा कुछ बोलने से बच रहे हैं, लेकिन उप महापौर मनोज भारद्धाज ने खुल कर कहा है कि ऐसे पार्षद पर कार्रवाई होनी चाहिए।


Tags:    
Share it
Top