Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > मायावती का चुनावी फार्मूला : बसपा ने पहली बार 97 मुस्लिमों को दिया टिकट, 113 सवर्ण, 87 दलित

मायावती का चुनावी फार्मूला : बसपा ने पहली बार 97 मुस्लिमों को दिया टिकट, 113 सवर्ण, 87 दलित

 Arun Mishra |  2017-01-04 09:51:24.0  |  लखनऊ

मायावती का चुनावी फार्मूला : बसपा ने पहली बार 97 मुस्लिमों को दिया टिकट, 113 सवर्ण, 87 दलित

लखनऊ : बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी विधानसभ चुनाव के लिए सभी 403 सीटों पर उम्मीदवारों पर घोषणा की है। मायावती ने 87 सीटों पर दलित, 97 सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार उतारे हैं। मायावती ने बताया कि कुल 403 सीटें हैं जिनमें एससी को 87, मुस्लिम को 97, ओबीसी को 106 और अगड़ी जाति के 113 उम्मीदवार हैं। अगड़ी जातियों में 66 टिकट ब्राह्मणों को, 36 कायस्थ और 11 वैश्य और पंजाबी समाज के लोगों को दिए गए हैं। 

बसपा ने पहली बार पार्टी के इतिहास में सबसे ज्यादा मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया है। चुनावी दंगल में पार्टी ने 97 मुसलमान उम्मीदवार उतारें हैं और यह आंकड़ा 2012 और उससे पहले के चुनावी इतिहास में सबसे ज्यादा है। मायावती का कहना है कि टिकट बंटवारे में यह देखा गया है कि कौन कितना बीएसपी के आंदोलन से जुड़ा रहा है।

मायावती ने यह भी साफ किया कि उनकी पार्टी किसी के साथ कोई गठबंधन नहीं करने जा रही। उन्होंने कहा कि हमें मालूम है कि यूपी की जनता हमारे साथ है। गठबंधन कमजोर लोग करते हैं और हम कमजोर नहीं हैं।

मायावती ने जातीय गणित इस तरह समझाया। उन्होंने कहा कि यूपी में यादव सिर्फ पांच प्रतिशत ही हैं और दलितों की तरह सभी सीटों पर प्रभावी नहीं है। यादव सिर्फ 60-70 सीटों पर ही प्रभावी हैं। बीएसपी का 22-23 प्रतिशत दलित वोट तो पक्का है। जहां मुसलमान ज्यादा हैं, वहां इन दोनों का वोट मिल जाए तो बीएसपी की जीत तय है। मायावती ने कहा कि ओबीसी और अपरकास्ट के भी सबसे ज्यादा प्रत्याशी बीएसपी के ही जीतेंगे। इसकी वजह है कि वह अपनी जाति के कुछ वोट भी ले जाएंगे तो दलित और मुसलमान वोट मिलाकर वे जीत जाएंगे। उन्होंने दोहराया कि यादव वोट शिवपाल और अखिलेश खेमे में बंट चुका है। ऐसे में मुसलमान अपना वोट बरबाद न करें।

मायावती ने टिकटों का यह जातीय गणित बताने के साथ ही अपने ऊपर लग रहे जातिवाद के आरोपों को सिरे से खारिज किया। उन्होंने दावा किया इसी फॉर्म्युले के आधार पर वह 2017 में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएंगी। मायावती ने कहा कि यह बीएसपी की फाइनल लिस्ट है। इस लिस्ट में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। जैसे ही चुनाव की तारीखों का ऐलान होगा, एक साथ पूरी लिस्ट जारी कर दी जाएगी। जो भी छंटनी होनी थी, वह कर दी गई है।

Tags:    
Share it
Top