Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > योगी सरकार में किस मंत्री को मिल सकता है कौन सा विभाग?

योगी सरकार में किस मंत्री को मिल सकता है कौन सा विभाग?

 शिव कुमार मिश्र |  2017-03-20 09:21:40.0  |  New Delhi

योगी सरकार में किस मंत्री को मिल सकता है कौन सा विभाग?

योगी सरकार के शपथ ग्रहण के बाद अब यूपी की राजनीतिक फिजाओं में जो सवाल सबसे ज्यादा तैर रहा है वह है, कि किस मंत्री को मिलेगा कौन सा विभाग? खास तौर पर बड़े और अहम मंत्रालय किन्हें दिए जाएंगे, यह जानने को लोग खासे उत्सुक हैं।


सोमवार को वीवीआईपी गेस्ट हाउस में सीएम आदित्यनाथ ने दोनों डेप्युटी सीएम और बीजेपी के प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल के साथ मिलकर विभागों के आवंटन पर बातचीत जरूर की, पर इस बात की उम्मीद कम ही है कि आज इस संबंध में कोई ऐलान किया जाएगा। ऐसे में इसे लेकर अटकलों का बाजार फिलहाल गर्म ही रहेगा।


योगी सरकार के दिग्गज मंत्रियों को कौन सा विभाग सौंपा जा सकता है


केशव प्रसाद मौर्य

योगी सरकार में दूसरे सबसे ताकतवर शख्स माने जा रहे केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश का सबसे अहम विभाग यानी गृह मंत्रालय सौंपा जा सकता है। अगर गृह मंत्रालय सीएम खुद अपने पास ही रखते हैं, तो ऐसी सूरत में PWD,सिंचाई जैसे बड़े विभाग मौर्य को सौंपे जा सकते हैं।


दिनेश शर्मा डिप्टी सीएम

दिनेश शर्मा को नगर विकास और फाइनेंस जैसे विभाग दिए जा सकते हैं। शर्मा लखनऊ के मेयर रहे हैं, उनके पास प्रशासनिक अनुभव भी है।

श्रीकांत शर्मा

योगी सरकार में मीडिया प्रभारी बनाए गए श्रीकांत शर्मा को उनके अनुभव के मुताबिक सूचना एवं जनसंपर्क और प्रोटोकॉल विभाग दिया जा सकता है।

सुरेश खन्ना

शाहजहांपुर से लगातार 8वीं बार विधायक चुने गए कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना को संसदीय कार्य विभाग दिया जा सकता है।

मोहसिन रजा

योगी सरकार के इकलौते मुस्लिम चेहरे मोहसिन रजा को अल्पसंख्यक कल्याण व हज विभाग दिए जाने की पूरी संभावना है।

धर्मपाल सिंह

आंवला सीट से चौथी बार चुनकर आए धर्मपाल सिंह को प्रदेश के लिहाज से बेहद अहम माना जाने वाला कृषि विभाग सौंपा जा सकता है।

स्वाति सिंह

तेजतर्रार नेता बनकर उभरीं स्वाति सिंह को महिला एवं बाल कल्याण मंत्री बनाया जा सकता है।

बीजेपी की पिछली सरकार में सूर्यप्रताप शाही के पास आबकारी और रमापति शास्त्री के पास स्वास्थ्य विभाग था। राजस्व, सहकारिता, पंचायती राज जैसे विभागों पर भी कई मंत्रियो की नजर है। यह माना जा रहा है कि केंद्र की तरह यहां भी स्वतंत्र प्रभार वाले मंत्रियो को महत्वपूर्ण विभाग दिए जा सकते हैं।

Share it
Top