Home > राज्य > 'ये जवानी है कुर्बान, राहुल गांधी तेरे नाम' के नारे से युवाओं ने किया लखनऊ में राहुल गाँधी का स्वागत

'ये जवानी है कुर्बान, राहुल गांधी तेरे नाम' के नारे से युवाओं ने किया लखनऊ में राहुल गाँधी का स्वागत

 Alok mishra |  2016-09-23 13:27:41.0  |  New Delhi

ये जवानी है कुर्बान, राहुल गांधी तेरे नाम के नारे से युवाओं ने किया लखनऊ में राहुल गाँधी का स्वागत

कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार की दोपहर ढाई बजे किसान यात्रा के तहत लखनऊ पहुंच गए। यहां वीवीआईपी गेस्ट हाउस में पहले शिया धर्मगुरुओं, फिर वहां से सुन्नी धर्मगुरु मौलाना राबे हसन नदवी से मुलाकात की और अलीगंज में दलित छात्रों से मिलकर जनसंपर्क कार्यक्रम शुरू किया। शाम होते-होते राहुल ने जोरदार ढंग से परिवर्तन चौक से अपने रोड शो की शुरुआत कर दी। इस दौरान जगह-जगह राहुल का फूलों से स्वागत किया गया। रास्ते में भीड़ का उत्साह देख कांग्रेसी नेता गदगद दिखे

कार्यकर्ताओं ने 'ये जवानी है कुर्बान, राहुल गांधी तेरे नाम' के नारे लगाए. रोड शो से पहले राहुल कैथेड्रल चर्च पहुंचे और रैदास मंदिर भी गए. यहां से वे नदवा कॉलेज भी गए, जहां उन्‍होंने बड़ी संख्या में मुस्लिम छात्रों से मुलाकात की.


तेलीबाग से निकलते समय राहुल गांधी ने सरफराज नामक युवक से पूछा की मोदी जी ने दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी क्या आपको रोजगार मिला? तो उस युवक ने राहुल गांधी से कहा की अभी तक उसे रोजगार नहीं मिला. राहुल के साथ राज बब्‍बर और शीला दीक्षित भी मौजूद हैं.

कहा जा रहा है कि राहुल गांधी राजधानी के युवाओं से जुड़कर पूरे प्रदेश में यह संदेश देना चाहते हैं कि वो हर व्यक्ति के साथ हैं

राहुल के काफिले में शामिल बस दोपहर 2.39 बजे लखनऊ के वीवीआईपी गेस्ट हाउस पहुंची। कांग्रेस की सीएम प्रत्याशी शीला दीक्षित, प्रमोद तिवारी, पी.एल. पुनिया उनके साथ बस से उतरे। वहां राहुल ने पहले से इंतजार कर रहे शिया धर्मगुरुओं कल्बे सादिक, सैफ अब्बास, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अम्मार रिज़वी और सिराज महेंदी से मुलाकात की। इस दौरान गुलाम नबी आजाद भी मौजूद रहे। उन्होंने शिया धर्मगुरुओं से आशीर्वाद मांगा और कांग्रेस के लिए दुआ की अपील की।


वीवीआईपी गेस्ट हाउस में ही करीब 15 मिनट तक शिया धर्मगुरुओं से बातचीत के बाद उन्होंने लंच किया। फिर सीधे लखनऊ विश्वविद्यालय के करीब स्थित इस्मालिक शिक्षा के केंद्र नदवा पहुंचे। वहां मौलाना राबे हसनी नदवी, मौलाना हमजा हसनी नदवी और मौलान सईदुर्रहमान से बंद कमरे में मुलाकात की। इस दौरान राहुल ने उनसे कांग्रेस के लिए दुआ करने को कहा। मौलाना राबे हसनी नदवी ने उन्हें पैगंबर मोहम्मद साहब की जीवनी पर लिखी दो किताबें भेंट कीं।


इसके बाद राहुल का काफिला हजरतगंज स्थित कैथेडेल चर्च पहुंचे। वहां कांग्रेस विधायक आराधना मिश्र उर्फ मोना के नेततृत्व में उनका स्वागत हुआ। चर्च में कुछ देर प्रार्थना के बाद राहुल 4 बजे के करीब अलीगंज में दलित छात्रों से मिलने चल दिए। उन्होंने रैदास मंदिर स्थित डा. बीआर अंबेडकर छात्रावास में नाश्ता तो नहीं किया लेकिन वहां पानी पिया और छात्रावास में रह रहे छात्रों की समस्याएं सुनी। उनके साथ मौजूद पीएल पुनिया और राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी ने 20-20 लाख रुपये छात्रावास को देने की घोषणा की।


लौटकर राहुल गांधी हनुमान सेतु होते हुए परिवर्तन चौक पहुंचे जहां कांग्रेस सेवादल के साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ ने उनका स्वागत किया। राहुल ने रोड शो शुरू करने से पहले वहीं करीब में बनी महर्षि वाल्मीकि की मूर्ति पर माल्यार्पण कर रोड शो की शुरुआत की।


Tags:    
Share it
Top