Home > तकनीकी > वायुसेना में 'नेत्र' शामिल, 200KM के दायरे में छिप नहीं पाएंगे दुश्मन

वायुसेना में 'नेत्र' शामिल, 200KM के दायरे में छिप नहीं पाएंगे दुश्मन

 Ekta singh |  2017-02-16 08:14:50.0  |  बेंगलुरु

वायुसेना में

बेंगलुरु : एयरो इंडिया-2017 एयर शो का मंगलवार को शुभारंभ हुआ. पांच दिनों तक चलने वाले इस शो में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के इंडियन मल्टी-रोल हेलीकॉप्टर (IMRH) के मॉडल का अनावरण किया. वही इसे भारतीय वायुसेना में 'नेत्र' को शामिल किया गया है. स्वदेश में विकसित एयरबोर्न अर्ली वार्निंग एंड कंट्रौल सिस्टम 'नेत्र' से भारतीय वायुसेना की खोजी क्षमता को और बल मिलेगा। वही अब जमीन, आसमान और पानी कहीं भी दुश्मन नहीं छिप पाएंगे. 'नेत्र' दुश्मन के प्रक्षेपास्त्र और विमान को जमीन, समुद्र और आकाश में 200 किमी के दायरे में खोज निकालने में सक्षम है.

बता दे की 24 सीटों वाला यह हेलीकॉप्टर करीब 20,000 फीट की ऊंचाई पर उड़ सकेगा और 3,500 किलो भार वहन करने में सक्षम होगा. हेलीकॉप्टर सैन्य ट्रांसपोर्ट, घायलों को निकालने, लड़ाई के दौरान खोज एवं बचाव अभियान, वीआइपी/वीवीआइपी लोगों को लाने-ले जाने और एयर एंबुलेंस के काम में उपयोगी हो सकता है. प्रस्तावित आइएमआरएच दो इंजनों और ऑटोमैटिक फ्लाइट कंट्रोल प्रणाली से लैस होगा.

Tags:    
Share it
Top