Home > हेल्थ > मेनें खाद्य मंत्री रहते हुए कोका-कोला और पेप्सी को दी मंजूरी?

मेनें खाद्य मंत्री रहते हुए कोका-कोला और पेप्सी को दी मंजूरी?

 Special News Coverage |  2016-05-14 11:15:20.0

मेनें खाद्य मंत्री रहते हुए कोका-कोला और पेप्सी को दी मंजूरी?


अपनी किताब में गोगोई ने लिखा है कि राव सरकार में खाद्य मंत्री रहते हुए मैंने ही बहुराष्ट्रीय कंपनी कोका-कोला और पेप्सी को भारत आने की मंजूरी दी। उन्होंने बताया है कि हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था को विदेशी निवेश के लिए खोलने का फैसला किया था, जिसके बाद मैंने ही कोका-कोला और पेप्सी को भारत में आने का रास्ता साफ किया। मैंनें महसूस किया कि अपनी अर्थव्यवस्था को वैश्विक समुदाय के साथ व्यापर के लिए बुलाने का यह ए क अच्छा अवसर है।


इसे भी पढ़ें कोल्डड्रिंक पीने से परिवार बीमार अब तो खोलो आँखे

गोगोई ने लिखा है कि उस वक्त मेरे इस फैसले का विपक्ष ने इसका पूर जोर विरोध किया था, लेकिन मैं इस फैसे पर कायम रहा। 1993 में मुझे केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री बना दिया गया। जिसके बाद हमारे देश को अंतरराष्ट्रीय निवेश की खूब प्राप्ति हुई।

इसे भी पढ़ें लोकसभा, राज्य सभा में कोकोकोला और पेप्सी पर रोक, फिर आमजन को क्यों पिला रहे हो जहर?



गोगोई ने अपनी किताब में तत्कालीन खाद्य मंत्री रहने के दौरान की सारी बातों का जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है कि राव कभी भी कांग्रेस पार्टी पर अपनी पकड़ नहीं बना सके।' मुझे लगता हैै कि जिस तरह से उन्होंने बाबरी विध्वंस कांड पर फैसला लिया वो बिल्कुल अनुचित था। यहां तक कि मैंने उन्हें पत्र लिखकर भी कहा था कि आपको इसके लिए आदेश नहीं देना चाहिए थे। इस मामले में आपको पहले अपने अल्पसंख्यक नेताओं से बातचीत कर उन्हें विश्वास में लेना चाहिए था।' गोगोई ने लिखा कि आपका ये फैसला बहुत निर्णायक है और हमें अपने अल्पसंख्यकों से अलग कर सकता है। लेकिन इसके बावजूद उन्होंने मेरे पत्र का जवाब नहीं दिया।

Tags:    
Share it
Top