Top
Home > अजब गजब > मुँहनोचवा की तरह EVM पर होहल्ला क्यों?

मुँहनोचवा की तरह EVM पर होहल्ला क्यों?

 Special Coverage News |  21 May 2019 10:07 AM GMT

मुँहनोचवा की तरह EVM  पर होहल्ला क्यों?
x

Journalist Shashank Mishra

#EVM_पर_होहल्ला

हद हो गई है कई स्तरों की सुरक्षा ,खुद कार्यकर्तागण भी सुरक्षा में मौजूद और तब भी EVM बदलने का आरोप !

#मुँहनोचवा_वाला_दौर_याद_है_ना_आपसभी_को

इस तरह के आरोप जैसा ही कुछ वर्ष पहले #मुँहनोचवा का शोर उठा था लोग रात रात भर जागते थे ,हम भी जागते थे ! पूरे गांव में कभी इधर इधर से तो कभी उधर से हल्ला #मुँहनोचवा यह गा ,वह गा इसके चक्कर मे कई हास्यास्पद घटनाएं घटित हुई !साल 2002 था. इसी साल यूपी में मुंहनोचवा का अटैक हुआ था. अखबारों में ऐसी क्रिएटिव हेडलाइन्स दिखती थीं "जितने मुंह उतने मुंहनोचवा." इसके बारे में दावे बहुत लोग करते थे लेकिन सच ये है कि देखा कभी-किसी ने नहीं. मीडिया वाले अफवाह फैलाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे थे. बिना देखे सुने रोज यहां वहां मुंह नोचाए मिलने वालों की कहानी छापते थे. यूपी के लगभग सभी जिलों में मुंहनोचवा फैल गया था.अंतोगत्वा कुछ नही मिला

#मुँहनोचवा_कारण

अब जरा कारण की तरफ देखा जाए तो हुआ यूं कि गर्मियों के दिनों में लोग रात्रि में अधिक गर्मी होने और लाइट भी लापता होने के कारण लोगों को नींद नही आती थी जिससे इस तरह का बुद्धिजीवी खुराफात लोगों के दिमाग मे आया और भयंकर गर्मी के बावजूद और बिना पंखे के लोग बंद कमरे में सोने को मजबूर थे !और रातभर #मुँहनोचवा जागरण काल चल रहा था! भारतीय संस्कृति के अनुरूप हम जग रहे तो दूसरा कैसे सो रहा बस हो हल्ला चलता रहा!

#EVM

कुछ ऐसा ही नजारा EVM के लिए भी देखने को मिल रहा है बेचारे कुछ कार्यकर्ता रात्रि में EVM की रखवाली कर रहे हैं रात्रि में घर जैसी व्यवस्था नही मिलने के कारण हो सकता है नींद नही आ रही हो ,मच्छर सो अलग और भारतीय संस्कृति के अनुसार जब हम जग रहे हैं तो दूसरा कैसे सो रहा है तो बस हो हल्ला #मुँहनोचवा आया और आजकल #EVM आया ,गया !


नोट - पोस्ट को हल्के फुल्के अंदाज में ले और रात्रि में गहरी नींद ले एक दिन की बात ही है परिणाम आने के बाद सब ठीक हो जाएगा!

Tags:    
Next Story
Share it