Home > ज्योतिष > रक्षाबंधन पर्व पर चार साल बाद बन रहा अनूठा संयोग

रक्षाबंधन पर्व पर चार साल बाद बन रहा अनूठा संयोग

इस बार श्रावण पूर्णिमा ग्रहण से मुक्त रहने के चलते दिन भर बांध सकेंगी राखी

 Anamika |  25 Aug 2018 10:23 AM GMT  |  नई दिल्ली

रक्षाबंधन पर्व पर चार साल बाद बन रहा अनूठा संयोग

नई दिल्ली

भाई-बहन के अटूट प्रेम के पर्व रक्षाबंधन (26 अगस्त) पर इस बार भद्रा का साया नहीं रहेगा। सूर्योदय से पूर्व ही भद्रा समाप्त हो जाने से बहनें दिनभर भाइयों की कलाई पर राखी बांध सकेंगी। सूर्योदय व्यापिनी तिथि मानने के कारण रात में भी राखी बांधी जा सकेगी।

वहीं, चार साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है तब रक्षाबंधन पर भद्रा का साया नहीं रहेगा। पंचांग के मुताबिक पूर्णिमा 25 अगस्त को दोपहर 3.15 बजे से 26 अगस्त को शाम 5.30 रहेगी। इस दिन धनिष्ठा नक्षत्र दोपहर 12.35 बजे तक रहेगा। 26 अगस्त को पूर्णिमा शाम 5.26 तक होने से यह त्यौहार पूरे दिन मनाया जाएगा।इस बार श्रावण पूर्णिमा ग्रहण से मुक्त रहने के चलते दिन भर बांध सकेंगी राखी

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top