Breaking News
Home > राज्य > बिहार > पटना > कन्हैया का प्रधानमंत्री पर बड़ा हमला, अंबानी के दलाल है मोदी!

कन्हैया का प्रधानमंत्री पर बड़ा हमला, अंबानी के दलाल है मोदी!

पिछले साढ़े चार साल से मोदी की इस तरह की जुमलेबाजी को' झूठ का नया नमाकरण करते हुए 'मोदीझूठ' करार दिया.उन्होने कहा कि सरकार चाहती ही नहीं कि गरीबों - किसानों- नौजवानों का कल्याण हो.

 Special Coverage News |  2018-10-10 13:26:54.0  |  बेगुसराय

कन्हैया का प्रधानमंत्री पर बड़ा हमला, अंबानी के दलाल है मोदी!

बिहार से शिवानंद गिरी की रिपोर्ट

यह देश राम का देश है, नाथूराम का नहीं। यह देश गांधी का देश है ,मोदी का नहीं। राम के नाम पर देश को नाथूराम का बनने नहीं देंगे। देश के किसान आत्महत्या कर रहे हैं ,नौजवान बेरोजगार हो रहे हैं और मजदूर जिल्लत की जिंदगी जीने को मजबूर हैं ,लेकिन केंद्र की मोदी सरकार को इन चीजों पर कोई परवाह तक नहीं है। उक्त बातें जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने मोतिहारी में कहीं। वे भारतीय कम़्यूनिस्ट पार्टी द्वारा छतौनी स्थित स्पोर्टस क्लब मैदान में आयोजित एक सभा को संबोधित कर रहे थे। कन्हैया ने न सिर्फ मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला बल्कि बिहार के नीतीश सरकार पर भी चुटकी ली।




सभा में उमड़ी से खुश कन्हैया ने किसानों ,मजदूरों नौजवानों व महिलाओं के मुद्दों पर मोदी सरकार को न सिर्फ घेरा बल्कि माल्या ,अंबानी सहित कई पूंजीपतियों की चर्चा करते हुए मोदी को पूंजीपतियों की चाकरी करने वाला तथा अंबानी का 'दलाल' तक कहा।सच तो यह है कि मोदी सरकार पूंजीपतियों के हाथों की कठपुतली बन गई है।

अपने भाषण की शुरूआत गुजरात में बिहार,यूपी व एमपी के मजदूरों के साथ हो रही मारपीट की घटना की निंदा करते हुए कन्हैया ने कहा कि इतना सब हो चुका लेकिन मोदी जी की चुप्पी टूटी नहीं है और प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी काफी दिनों बाद इस मसले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।उन्होंने कहा कि गुजरात सरकार को इस मारपीट में शामिल लोगों को गिरफ्तार कर कड़ी सजा दिलानी चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटना की पुनरावृति न हो।कन्हैया का मानना है कि यदि बिहार में ही उधोगों ,कृषि व पढ़ाई के संस्थानों का विकास सरकारों द्वारा किया गया होता तो आज बिहार के मजदूरों ,छात्रों को देश के विभिन्न राज्यों में अपमानित नहीं होना पड़ता।




नरेन्द्र मोदी को आड़े हाथों लेते हुए कन्हैया ने कहा कि जो मोदी गुजरात छोड़कर यूपी से लोकसभा चुनाव जीते,जिस यूपी ने73 और बिहार ने 30 सीटें उनकी झोली में दी, लेकिन वहीं मोदी देश के शीर्ष पद पर बैठकर बिहार -यूपी के लोगों के साथ उनके गृहप्रदेश व उनकी पार्टी की सरकार वाले गुजरात में घटित इस मुद्दे पर चुप्पी साधे रहना हैरत में डाल दिया है। ये वहीं मोदी हैं जो ये कहते हैं कि बिहार का डीएनए ही खराब है।

नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कन्हैया ने कहा कि जो लोग ये कहते थे कि जनादेश से कोई समझौता नहीं करेंगे लेकिन जनता के जनादेश का मजाक उड़ाकर उसी सांप्रदायिक ताकतों व डीएनए खराब कहने वाले लोगों की गोदी में बैठ सरकार चला रहें हैं।




चंपारण की धरती का महत्व को याद दिलाते हुए जेएनयू छात्र संघ नेता ने कहा कि यह महात्मा गांधी की धरती है।यहां की मिट्टी ने गांधीजी को महात्मा बनाया। ये अहिंसा की धरती है यहां हिंसा होने नहीं देंगे ये राम ता देश है नाथूराम का नहीं।यह देश गांधी का देश है ,मोदी का नहीं।

कन्हैया ने कहा कि देश में1200 किसान आत्महत्या कर चुकें हैं लेकिन मोदी के दोस्तों की कंपनी 10000 करोड़ रूपए बीमा के नाम पर प्रति वर्ष लाभ कमाने के बाद भी उन्हें बीमा लाभ भी नहीं पहुंचा पा रही है।मोदीजी को किसानों -मजदूरों ,छात्र नौजवानों की कोई चिंता नहीं है वे न सिर्फ अमीरों की चाकरी कर रहें हैं बल्कि पेट पालने के लिए अंबानी की दलाली कर रहे हैं।

2014 के लोकसभा चुनावों में किए गए लोकलुभावन घोषणाओं का जिक्र करते हुए कन्हैया ने मोदी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि दो करोड़ लोगों को

नौकरी तो दे नहीं पाए ,उल्टे नोटबंदी ,जीएसटी आदि के कारण 90लाख लोगों को बेरोजगार जरूर बना दिए।कालाधन नहीं आया।कन्हैया ने सवालिया लहजे में कहा कि मोदी जी दिल्ली से कहते हैं कि तीन लाख करोड़ रूपया वापस आया है तो आखिर जापान से एक लाख करोड़ रूपए लेने की क्यों जरूरत पड़ी।मोदी के इस बात पर तंज कसते हुए कन्हैया ने कहा कि जब कूड़ा उठाने से आध्यात्मिक सुख मिलता है तो वे वैष्णव देवी क्यों जाते हैं। सरकार के पास स्वास्थ्य ,शिक्षा के लिए फंड नहीं है लेकिन मोदीजी क़ो तरह - तरह के सूट पहनकर विदेश जाने के लिए फंड है।




भारी सुरक्षा के बीच हुए इस सभा में कन्हैया ने सरकार पर आरोप लगाया कि यदि कोई काम खराब हुआ तो उसका ठीकरा नेहरू के माथे फोड़ते हैं और अच्छा हुआ तो अपना श्रेय समझते हैं। पिछले साढ़े चार साल से मोदी की इस तरह की जुमलेबाजी को' झूठ का नया नमाकरण करते हुए 'मोदीझूठ' करार दिया.उन्होने कहा कि सरकार चाहती ही नहीं कि गरीबों - किसानों- नौजवानों का कल्याण हो।लिहाजा समाज में अमीरी व गरीबी की जबरदस्त खाई उत्पन्न हो गई है जो लोगों में असंतोष बढने का कारण बन गया है। समाज में तरह- तरह तरीकों से नफरत फैलाया जा रहा है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा । कन्हैया की इस सभा में कांग्रेस ,आरजेडी व कई दलों के नेता सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।युवाओं ने कन्हैया का भव्य स्वागत किया ।

Tags:    

नवीनतम

Share it
Top