Home > बर्थडे स्पेशल: 73 के हुए बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन, जानें-ज़िन्दगी के कुछ अनछुए पहलू

बर्थडे स्पेशल: 73 के हुए बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन, जानें-ज़िन्दगी के कुछ अनछुए पहलू

 Special News Coverage |  2015-10-11 09:27:15.0

Happy Birthday Amitabh Bachchan



हिंदी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन का जन्म आज ही के दिन 11 अक्टूबर 1942 को उत्तर प्रदेश इलाहाबाद में हिंदू कायस्थ परिवार में हुई था। अमिताभ बॉलीवुड के सबसे लोकप्रिय अभिनेता हैं। अमिताभ आज 72 साल के हो गए हैं लेकिन आज भी उनमें काम करने की लगन वही देखी जा सकती है। वह आज भी काम को लेकर उतने ही उत्साहित हैं।

प्रसिद्ध हिंदी कवि डॉ. हरिवंश राय बच्चन उनके पिता थे। उनकी मां तेजी बच्चन को थिएटर में गहरी रुचि थी, फिर भी उन्होंने घर संभालना ही पसंद किया। वर्ष 2003 में अमिताभ के सिर से पिता का साया उठ गया, जबकि उनकी मां ने 21 दिसंबर 2007 को उन्हें अलविदा कहा। उनका मां के प्रति हमेशा से गहरा लगाव रहा।


Amitabh Bachchan

अमिताभ ने अपने करियर की शुरुआत में कई उपहास सहने पड़े। उन्हें कुछ फिल्मों से तो सिर्फ उनके लंबे कद की वजह से हाथ धोना पड़ा। उनकी अवाज को लेकर भी मजाक उड़ाया गया। 'जब-जब जग उस पर हंसा है, तब तक इतिहास रचा है' उन्होंने यह सच कर दिखाया। लंबा कद और बुलंद आवाज उन्हें सबसे खास बनाती है। उन्होंने बॉलीवुड में 'बाबुल' जैसी फिल्म में किसी दूसरे को अपनी आवाज भी दी है। कहते हैं कि कागज अपनी किस्मत से उड़ता है, लेकिन पतंग अपनी काबलियत से उड़ती है। अमिताभ जी को पतंग कहा जा सकता है, क्योंकि उन्होंने अपनी कामयाबी से दुनिया को जीत लिया।

फिल्म जगत में अपने करियर के शुरुआती दिनों में अमिताभ ने ‘आकाशवाणी’ में भी आवेदन किया किन्तु उन्हें वहां काम करने का मौका नहीं मिल सका। यहां तक कि फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ में अपनी बेहतरीन आवाज के बावजूद भी उन्हें मूक भूमिका भी स्वीकार करनी पड़ी। 11 अक्टूबर 1942 को इलाहाबाद में जन्मे अमिताभ ने अपने करियर की शुरुआत कलकत्ता में बतौर सुपरवाइजर की, जहां उन्हें 800 रुपए मासिक वेतन मिला करता था। साल 1968 मे कलकत्ता की नौकरी छोडऩे के बाद वे मुंबई आ गए। बचपन से ही अमिताभ का झुकाव अभिनय की ओर था और अभिनेता दिलीप कुमार से प्रभावित रहने के कारण वह उन्हीं की तरह अभिनेता भी बनना चाहते थे।

Top-Ten-Dialogues-Of-Amitabh-Bachchan

साल 1969 मे अमिताभ को पहली बार ख्वाजा अहमद अब्बास की फिल्म ‘सात हिंदुस्तानी’ मे काम करने का अवसर मिला किन्तु इस फिल्म के असफल होने के कारण वह लोगों के बीच कुछ खास पहचान नहीं बना पाये। अभिताभ ने हिंदी सिनेमा में कई फिल्मों जैसे- ‘‘जंजीर’’, ‘‘रोटी कपड़ा और मकान’’, ‘‘खुदा गवाह’’, ‘‘कुली’’, ‘‘कुंवारा बाप’’, ‘‘फरार’’, ‘‘शोले’’, ‘‘चुपके चुपके’’, ‘‘कसमें वादे’’, ‘‘त्रिशूल’’, ‘‘मुकद्दर का सिकंदर’’, ‘‘मि. नटवरलालग’’, ‘‘काला पत्थर’’, ‘‘दोस्ताना’’, ‘‘सिलसिला’’, ‘‘शान’’, ‘‘लावारिस’’ और ‘‘शक्ति’’ जैसी मशहूर फिल्मों में काम भी किया।

amitabh bachchan and jaya bachchan

जया से पहली मुलाकात


अमिताभ बच्चन और उनकी पत्नी जया भादुड़ी की पहली मुलाकात पुणे के फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट में हुई थी। दूसरी बार वे ऋ षिकेश मुखर्जी की फिल्म गुड्डी के सेट पर मिले। ऋ षिकेश मुखर्जी ने गुड्डी में नायक के तौर पर पहले न सिर्फ अमिताभ बच्चन को चुना था, बल्कि उनके साथ कई सीन भी शूट कर लिए गए थे, लेकिन बाद में अमिताभ को यह कहकर फिल्म से हटा दिया गया, कि वह इस भूमिका में सूट नहीं करते। इसके बाद फिल्म में नायक का किरदार समित बांजा को सौंपा गया।

abhishek-family

12 फिल्मों में किया डबल रोल
अमिताभ बच्चन ने लगभग 12 फिल्मों में डबल रोल किया है। इतना ही नहीं एक फिल्म निर्देशक एस. रामानाथन की महान में उन्होंने तिहरी भूमिका यानी ट्रिपल रोल किया है। अमिताभ बच्चन ने पहली बार मिस्टर नटवरलाल के गीत मेरे पास आओ मेरे दोस्तों… गीत के लिए पाश्र्वगायन किया था।

80530-abhishek-bachchan-shweta-nanda-aishwarya-rai-bachchan-jaya

जब रेखा के साथ जुड़ा उनका नाम
1978 में अमिताभ और रेखा की नजदीकियों की खबरें अखबारों और फिल्मी मैगजीन्स की सुर्खियां बनने लगीं थीं। इस बात को लेकर अमिताभ के घर में भी काफी हंगामा रहा। कहते हैं रेखा दिल ही दिल में अमिताभ को चाहती थीं लेकिन अमिताभ हमेशा इस रिश्ते को लेकर चुप रहे। वहीं रेखा कभी किसी शादी में मांग में सिंदूर भरकर तो कभी अपनी मां बनने की अफवाहें उड़ाकर सनसनी फैलाती रहीं। जिस समय अमिताभ और रेखा के अफेयर की खबरें जोरों पर थीं उस समय इन खबरों से परेशान होकर जया बच्चन ने रेखा को डिनर पर भी बुलाया था।

amitabh-bachchan-and-shweta-nanda-in-their-first-p-h-1426581146

जब मौत से जीतकर आये थे बिगबी
फिल्म कुली की शूटिंग के दौरान अमिताभ गंभीर रूप से घायल होने हो गए थे। बेहद गंभीर स्थिति में मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती थे तब तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गाधी उन्हें देखने अस्पताल आई थीं। इस दौरान उनकी पत्नी जया बच्चन रोजाना ब्रीच कैंडी अस्पताल से सिद्धि विनायक मंदिर तक पैदल जाया करती थीं, जो लगभग छह किलोमीटर है। इसके अलावा उन दिनों देशभर में उनके हजारों-लाखों प्रशंसक मंदिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों और गिरजाघरों में प्रार्थनाएं करते रहे थे।


amitabh family

परिवार
अमिताभ की शादी अभिनेत्री जया भादुडी से हुई। अमिताभ की एक बेटी श्वेता नंदा और बेटा अभिषेक बच्चन हैं। दोनों की शादी हो गई है। अभिषेक बच्चन की शादी प्रसिद्द बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्य राय से हुई है। अमिताभ का एक नाती, एक नातिन और एक पोती आराध्या भी है।

युवा उनके आदर्शो को लेकर जीवन में आगे बढऩे के सपने संजो सकते हैं, क्योंकि वक्त कब, कहां, किसका कैसे बदल जाए यह कोई नहीं जानता है। जिस तरह अमिताभ ने अपने जीवन के कांटों को पार कर ऐसी जगह जा पहुंचे, जिससे वह सभी की आंखों का तारा बन गए हैं, वैसे ही हमें भी जीवन में उनके उदाहरण लेकर कठिन से कठिन पथ को चुनकर उसे पार करना चाहिए। इस तरह पथ में लाख कांटे आएं, परन्तु व्यक्ति के पैर डगमगाएं नहीं, यही प्रेरणा देता है महानायक का संघर्षमय जीवन।

href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


Share it
Top