Breaking News
Home > Archived > 90 साल के हुए संगीतकार खय्याम, दान कर दी 12 करोड़ की जायदाद

90 साल के हुए संगीतकार खय्याम, दान कर दी 12 करोड़ की जायदाद

 Special News Coverage |  18 Feb 2016 10:54 AM GMT

90 साल के हुए संगीतकार खय्याम, दान कर दी 12 करोड़ की जायदाद

मुम्‍बई: मशहूर गीतकार खय्याम ने पूरी संपत्ति दान करने की घोषणा की है। अपने 90वें जन्‍मदिन के मौके पर उन्‍होंने संपत्ति को खय्याम प्रदीप जगजीत चैरिटेबल ट्रस्‍ट को देने का एलान किया। उनके पास 12 करोड़ रुपये की संपत्ति थी। इस रकम के जरिए फिल्‍म उद्योग के जरूरतमंद कलाकारों और लोगों की मदद की जाएगी। उनका का पूरा नाम मोहम्‍मद जहूर हाशमी है लेकिन वे खय्याम के नाम से मशहूर हुए।

संगीत के स्वर्णिम दौर के जाने-माने संगीतकार खय्याम ने आज अपने जन्मदिन के 90 साल पूरे किए और इस मौके पर उन्होंने और उनकी गायिका पत्नी जगजीत कौर ने फिल्म जगत के जरूरतमंद और उभरते संगीतकारों के लिए एक ट्रस्ट की घोषणा की। इस ट्रस्ट का नाम होगा 'खय्याम प्रदीप जगजीत चैरिटेबल ट्रस्ट'। इस ट्रस्ट के मुख्य ट्रस्टी हैं लोकप्रिय गजल गायक तलत अजीज और उनकी पत्नी बीना। अपने जन्मदिन के मौके पर खय्याम ने अपनी संपूर्ण संपत्ति दान करने की घोषणा की है, जो तकरीबन 12 करोड़ की है।


ख़य्याम ने पहली बार फिल्म 'हीर रांझा' में संगीत दिया लेकिन मोहम्मद रफ़ी के गीत 'अकेले में वह घबराते तो होंगे' से उन्हें पहचान मिली। 'वो सुबह कभी तो आएगी', 'जाने क्या ढूंढती रहती हैं ये आंखें मुझमें', 'बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों, 'ठहरिए होश में आ लूं', 'तुम अपना रंजो गम अपनी परेशानी मुझे दे दो', 'शामे गम की कसम', 'बहारों मेरा जीवन भी संवारो' जैसे अनेकों गीत में अपने संगीत से चार चांद लगा चुके ख़य्याम ने करियर की शुरुआत 1947 में की थी। फिल्म 'शोला और शबनम' ने उन्हें संगीतकार के रूप में स्थापित कर दिया। उन्हें 'कभी कभी' और 'उमराव जान' के लिए फिल्मफेयर भी मिला।

ख़य्याम की पत्नी जगजीत कौर भी अच्छी गायिका हैं और उन्होंने ख़य्याम के साथ 'बाज़ार', 'शगुन' और 'उमराव जान' में काम भी किया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top