Home > अनुपम खेर पर भड़के नसीरुद्दीन, 'जो कभी कश्मीर में नहीं रहा, वो विस्थापित कैसे हो गया'

अनुपम खेर पर भड़के नसीरुद्दीन, 'जो कभी कश्मीर में नहीं रहा, वो विस्थापित कैसे हो गया'

 Special News Coverage |  2016-05-28 06:22:28.0

naseeruddin-shah-attacks-anupam-kher-says-a-person-who-has-never-lived-in-kashmir-How-to-they-been-displaced

नई दिल्ली: नसीरुद्दीन शाह ने बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर पर हमला करते हुए कहा कि जो कभी कश्मीर में रहा ही नहीं वह अचानक एक विस्थापित नागरिक हो गया और कश्मीरी पंडितों के लिए लड़ रहा है। नसीरुददीन अपनी फिल्म 'वेटिंग' के प्रचार के लिए राष्ट्रीय राजधानी में थे। नरेन्द्र मोदी सरकार के दो साल पूरे होने पर बॉलीवुड एक्टर नसीरुददीन शाह ने कहा कि देश के नागरिकों को सरकार के प्रति धारणा बनाने से पहले उसे और समय देना चाहिए। उन्होंने साथ ही कहा कि सरकार इतनी मूर्ख नहीं है कि देश को अंधकार के दौर में ले जाए।


शाह ने कहा, लोग बहुत तेजी से फैसले लेते हैं और धारणाएं बना लेते हैं। मुझे लगता है कि हमें सरकार को और समय देना चाहिए। लेकिन कुछ चीजें हैं जो मुझे चिंतित करती हैं जैसे पाठय पुस्तकों में बदलाव जो कि चिंता का विषय है।

तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके अभिनेता ने कहा, मेरा मानना है कि सत्ता में बैठे लोग अपने सामने मौजूद विकल्पों को समझने के लिहाज से मूर्ख नहीं हैं, ये विकल्प हैं कि या तो एक आधुनिक भारत का निर्माण करें या हमें अंधेरे के दौर में दोबारा ले जाएं। मुझे लगता है कि वह इतने मूर्ख नहीं हैं कि दूसरे विकल्प को चुनें। शाह ने कहा, किसी और चीज के लिए नहीं तो कम से कम सत्ता में रहने के लिए। मैं उम्मीद नहीं छोड़ रहा। अगर हम उम्मीद छोड़ दें तो इसका मतलब है कि हम लड़ाई हार चुके हैं।

उन्होंने राज्यसभा में गीतकार जावेद अख्तर द्वारा दिए गए बयानों का समर्थन किया जिनमें गीतकार ने कहा था कि किसी को यह अधिकार नहीं है कि वह किसी दूसरे के देशप्रेम पर सवाल उठाए। मैं निराश हूं कि इस तरह के बयान दिए गए और तब उनकी निंदा तक नहीं की गई। जैसा जावेद साहब ने कहा, वंदे मातरम और भारत माता की जय कहना उनका अधिकार है। मैं ऐसा अपनी मर्जी से कहूंगा न कि किसी के कहने पर। मैं उनका समर्थन करता हूं। किसी को मेरे देशप्रेम पर सवाल करने का अधिकार नहीं है। ओवैसी ने कहा था कि वह भारत माता की जय का नारा नहीं लगाएंगे क्योंकि संविधान उनसे ऐसा करने को नहीं कहता।

Tags:    
Share it
Top