Home > Archived > 85% चेतावनी का विरोध, सिगरेट निर्माताओं ने किया उत्पादन बंद का ऐलान

85% चेतावनी का विरोध, सिगरेट निर्माताओं ने किया उत्पादन बंद का ऐलान

 Special News Coverage |  2 April 2016 8:17 AM GMT

85% चेतावनी का विरोध, सिगरेट निर्माताओं ने किया उत्पादन बंद का ऐलान
नई दिल्ली: सरकार ने पहली अप्रैल से तंबाकू उत्पादों के पैकेटों पर 85 फीसद चित्रात्मक चेतावनी छापना अनिवार्य कर दिया है। देश में सिगरेट व तंबाकू से होने वाली मौतों के बढ़ते ग्राफ को लेकर सरकार लगातार चिंतित हैं। ऐसे में सिगरेट निर्माता सरकार के इस फैसले के विरोध में उतर आए हैं। सिगरेट निर्माताओं के संगठन टुबैको इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (टीआईआई) ने सिगरेट उत्‍पादन को बंद करने का ऐलान किया है।

सिगरेट निर्माताओं का कहना है कि सरकार अपनी मनमानी चला रही है। जो सिगरेट निर्माता बरदाश्‍त नहीं करेंगे। उनका कहना है कि जब तक सरकार इस फरमान को वापस नहीं लेती है तब तक सिगरेट का उत्‍पादन नहीं किया जाएगा। ऐसे में सिगरेट उत्‍पादन ठप होने से हर दिन करीब 350 करोड़ रुपये का नुकसान होगा।


टीआईआई का यह भी कहना है कि सरकार विदेश से जुड़ी स्वयंसेवी संगठनों (एनजीओ) और तंबाकू कार्यकर्ताओं के दबाव में है। जिससे ऐसे फरमान जारी कर रही है। जब कि सरकार को सोचना चाहिए कि उसके इस फैसले राजस्व का नुकसान होने के साथा ही सिगरेट की गैर कानूनी बिक्री में इजाफा हो जाएगा। वह सिगरेट के व्यवसाय से जुड़े करीब 4.57 करोड़ लोगों की रोजी रोटी पर संकट के बादल मंडराने लगेगें। स्वास्थ्य मंत्रालय के 24 सितंबर, 2015 के आदेश को अधिसूचना जारी किए जाने से हुआ है। मंत्रालय ने उक्त आदेश सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद (पैकेजिंग एवं लेबलिंग) संशोधन नियम, 2014 के तहत जारी किया गया था।

Tags:    
Share it
Top