Home > Archived > पीएनबी बैंक में तिरुपति मंदिर ने जमा कराया 1,311 किलोग्राम सोना

पीएनबी बैंक में तिरुपति मंदिर ने जमा कराया 1,311 किलोग्राम सोना

 Special News Coverage |  20 April 2016 12:14 PM GMT

पीएनबी बैंक में तिरुपति मंदिर ने जमा कराया 1,311 किलोग्राम सोना

नई दिल्ली: भारत के सबसे अमीर मंदिरों में से एक तिरुपति बालाजी मंदिर ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 0.995 शुद्धता का 1311 किलोग्राम सोना जमा कराया है। मंदिर ने ये सोना 3 साल की गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम के तहत जमा कराया है। जिसके लिए बैंक 1.75 फीसदी ब्याज देगा। फिलहाल मंदिर प्रशासन और भी सोना ज्यादा बेहतर स्कीम पर जमा कराने के लिए बात कर रहा है।

बता दें टीटीडी आंध्र प्रदेश के तिरुपति में बालाजी या श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर का प्रबंधन करता है। इसे दुनिया का सबसे समृद्ध मंदिर माना जाता है, जिसे सालाना भक्तों से अरबों रुपए मूल्य का चढ़ावा मिलता है।


पीएनबी में जमा कराए सोने का मूल्य 400 करोड़ रुपये अनुमानित है। पीएनबी ने जीएमएस के तहत 3 साल तक की अल्प अवधि के लिए सालाना 1.75 फीसदी ब्याज की पेशकश की थी। तिरुपति मंदिर के कार्याधिकारी डॉ. डी सांबशिव राव ने कहा कि मंदिर बोर्ड ने आरबीआई और केंद्र सरकार को पत्र लिखा है जिसमें स्वर्ण मुद्रीकरण योजना में बदलाव की मांग की है।

उन्होंने कहा, 'अगर वे योजना में बदलाव स्वीकार कर लेते हैं तो हम मौजूदा और नए स्वर्ण भंडार मध्यम से दीर्घ अवधि के लिए योजना में जमा करा सकते हैं।' अल्प अवधि के लिए जमा सोना भुनाए जा सकते हैं, जिसे मंदिर अपने लिए अनुकूल समझते हैं। टीटीडी मध्यम (5-7 साल) और दीर्घ अवधि (10-12 साल) के लिए सोना जमा करने को इच्छुक है। इनमें परिपक्वता अवधि पूरी होने पर जमाकर्ताओं को सोने के मूल्य के समतुल्य रकम दिए जाने का प्रावधान है। श्रद्धालु हर साल तिरुपति मंदिर में एक टन सोना चढ़ाते हैं। इन्हें बाद में परिष्करण के लिए रिफाइनरी या सरकारी टकसाल में गोल्ड बार में तब्दील करने के लिए भेजा जाता है। इसके बाद ये गोल्ड बार बैंक में जमा होते हैं।

ये भी देखें: तिरुपति बालाजी मंदिर के ऐसे रहस्य जिन्हे जानकर आप दंग रह जाएंगे

बता दें टीटीडी के सालाना बजट के अनुसार बैंकों में सोना जमा करने पर इसे 778.93 करोड़ रुपये ब्याज मिलेगा। टीटीडी का सालाना बजट 2016-17 के लिए कुल 2,678.07 करोड़ रुपये रहा है। टीटीडी को श्रद्धालुओं से 1,010 करोड़ रुपये पूंजी कोष मिलने की उम्मीद है, जो आय का एक बड़ा स्रोत होगा। इसी तरह, विशेष प्रवेश दर्शन से भी वित्त वर्ष में 209 करोड़ रुपये प्राप्त होने की उम्मीद है। पारिश्रमिक और वेतन के मद में टीटीडी को करीब 500 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ सकते हैं। इस वित्त वर्ष मानव केश की बिक्री से करीब 150 रुपये प्राप्त होने का अनुमान है।

Tags:    
Share it
Top