Top
Begin typing your search...

नवंबर 2019 के लिए जीएसटी के राजस्व में एक लाख करोड़ का निशान पार

नवंबर 2019 के लिए जीएसटी के राजस्व में एक लाख करोड़ का निशान पार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: आर्थिक सुस्ती और विकास दर (Economic Growth) पर नकारात्मक खबरों के बीच सरकार और देश की अर्थव्यवस्था के लिए राहत की खबर है. 2 महीने की नेगेटिव ग्रोथ के बाद जीएसटी कलेक्शन (GST Collection) पॉजिटिव हुआ है. जीएसटी (GST) कलेक्शन के आंकड़े ने एक लाख करोड़ को क्रॉस कर लिया है. ये आंकड़ा1,03,492 करोड़ रुपए रहा रहा. घरेलू आवक साल की सबसे ज़्यादा 12% रही और पिछले साल के मुकाबले 6% बढ़ा है.

केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (CGST) 19,592 करोड़ रुपए रहा वहीं राज्य वस्तु एवं सेवा कर (SGST) 27,144 करोड़ रुपए एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर (IGST) 49,028 करोड़ रुपए रहा. जबकि 7,727 करोड़ रुपए सेस से आया. इनवर्ड सप्लाई और आउटवर्ड सप्लाई को बताने वाले GSTR 3B रिटर्न को फाइल करने वालों की संख्या 77.83 लाख रही.


दो महीने की नकारात्मक वृद्धि के बाद, जीएसटी राजस्व ने नवंबर, 2018 में नवंबर 2018 के संग्रह में 6% की सकारात्मक वृद्धि के साथ एक प्रभावशाली वसूली देखी. महीने के दौरान, घरेलू लेनदेन पर जीएसटी संग्रह में 12% की वृद्धि देखी गई, जो वर्ष के दौरान सबसे अधिक है.

आयात पर जीएसटी संग्रह में 13% की (-) नकारात्मक वृद्धि देखी गई, लेकिन पिछले महीने की (-) 20% की वृद्धि पर सुधार हुआ है. यह जुलाई 2017 में जीएसटी की स्थापना के बाद से आठवीं बार है कि मासिक संग्रह अपने पिछले रिकार्ड को एक लाख करोड़ रुपये का निशान पार कर गया है. इसके अलावा, नवंबर 2019 का संग्रह जीएसटी की शुरुआत के बाद से तीसरा सबसे अधिक मासिक संग्रह है, जो केवल चुनाव के बाद अप्रैल 2019 और मार्च 2019 के है.

Special Coverage News
Next Story
Share it