Home > पीएम मोदी जी और रेल मंत्री अगर मुकद्दमा न करें तो!

पीएम मोदी जी और रेल मंत्री अगर मुकद्दमा न करें तो!

 शिव कुमार मिश्र |  2017-10-16 07:26:32.0  |  दिल्ली

पीएम मोदी जी और रेल मंत्री अगर मुकद्दमा न करें तो!

हे माननीयो!! प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी, रेल मंत्री पीयूष गोयल जी, अगर हम पर कोई केश न करें तो निवेदन कर लूं?


सर, ज्यादा उम्मीद नहीं रखता हूं आपसे लेकिन मनुष्य हूं, स्वार्थ ईश्वर प्रदत्त है इसलिए थोड़ी उम्मीद तो रहती ही है खासकर उनसे जिन्हें हमने चुना है। बड़ी आशा थी हमें आपसे। परन्तु यकीन माने अनुभव में तो यही आ रहा है कि "हो नहीं पा रहा है"।
कहने को तो आपने सुविधाएं दे रखी हैं लेकिन कम से कम मेरे मामले में वो काम करती नहीं मिलीं। हालांकि कभी कभी मैनें उन्हें काम करते हुए देखा है... टी.वी. पर, मीडिया में और भक्तों की वाल पर। मैं भी अभी तक तो आपका ही वोटर रहा हूं। कोई विकल्प नहीं है तो शायद आगे भी आपका ही वोटर रहूंगा लेकिन निवेदन करूं तो मुझे वो भारत अभी तक नहीं दिखा जैसा भारत आपने दिखाने और बनाने का वादा किया था, सपना दिखाया था।
लगभग हर फील्ड में एक जैसा ही हाल है, यहां पर बस एक ही उदाहर से अपनी बात रखना चाहूंगा कि दस और ग्यारह बजे से रेलवे की तत्काल बुकिंग शुरू होती है, एक मिनट के अंदर पेमेंट भी डन हो जाता है लेकिन टिकट नहीं मिलती। मैसेज आता है कि टिकट बुक नहीं हुआ है तो आपका पैसा वापस कर दिया जाएगा वो भी एक सप्ताह के बाद। तीन दिनों से पैसा ले लिया जाता है, वापस नहीं मिलता। अब तो वैलेट भी खाली हो गया है, कल की टिकट के लिए कैसे ट्राई करूंगा?
पता है, कभी-कभी मुझे ऐसा लगता है जैसे देश को आप लोग नहीं किसी प्रायवेट अस्पताल के डॉक्टर चला रहे हों। वो भी तो ऐसा ही करते हैं कि पैसे पूरे एडवांस दे दो, एग्रीमेंट पे साइन कर दो कि मरीज की जान गई तो डॉक्टर्स का कोई दोष नहीं होगा............ बस ऐसे ही चल रहा है देश।
पंडित हनुमान हनुमान मिश्र , ज्योतिश्चार्य

Tags:    
Share it
Top