Home > जुमलेबाज की लफ्फाजी!

जुमलेबाज की लफ्फाजी!

 महेश झालानी |  2017-11-08 13:19:00.0  |  जयपुर

जुमलेबाज की लफ्फाजी!

ख्यातिप्राप्त कवि और मंच संचालक सौरभ जैन ने मोदी जी प्रशंसा में जमकर कसीदे पढ़े। उसका जवाब आपके सामने प्रस्तुत है -

सौरभ जी। आप निसंदेह एक ख्यातिप्राप्त कवि और उम्दा संचालक है। आप बखूबी जानते है कि जरूरी नही कि कविता के माध्यम से जो बात कहते है, उसे जीवन में भी आत्मसात किया जाए। आपने भगवान राम और बुद्ध का उदाहरण प्रस्तुत कर मोदी जी को इनके समतुल्य खड़ा कर दिया। अपनी पत्नी को देश सेवा के लिए त्यागा, इसका प्रमाण ना तो मेरे पास है और ना ही आप मुहैया करा सकते है। जहाँ तक मोदी जी के अन्य मुद्दों का सवाल है, आप उन्हें बड़ी चालाकी से गोल और नजरअंदाज कर गए।

मैं आपसे पूछना और जानना चाहता हूँ कि जब चुनाव आते है तब ही राम मंदिर निर्माण की बात क्यों उठाई जाती है। माना कि कांग्रेस राम मंदिर के खिलाफ होगी। लेकिन भाजपा पहले भी सत्ता में रही है और आज बहुमत के साथ काबिज है। फिर राम मंदिर का निर्माण क्यो नही। भाजपाइयों की तरह आपका भी यही जवाब होगा कि यह मामला अदालत के विचाराधीन है। मैं इस बात को मान लेता हूँ। लेकिन बताएंगे कि बाबरी मस्जिद को ढहाने के लिए भाजपा, संघ और वीएचपी ने अदालत से इजाजत ली थी ?

मोदी ने चुनाव के वक्त हर साल 2 करोड़ बेरोजगारों को नौकरी, धारा 370 की समाप्ति, भ्रस्टाचार का खात्मा, लोकपाल की नियुक्ति, किसानों को उनकी उपज का पूरा मूल्य, काला धन की वापसी का जनता से वादा किया था। क्या इनमे से एक भी वादा पूरा होगया ? जिस महबूबा को पाकिस्तान परस्त बताया जा रहा था, भाजपा उसकी गोद मे बैठकर अठखेलिया क्यो कर रही है ? आपके प्रदेश यूपी में योगी ने सुशासन और सुरक्षा की बात कही थी।

आज यूपी के अस्पताल श्मसान में तब्दील हो रहे है । रिश्वत की दर दुगनी से भी ज्यादा होगई है। और हां, नैतिकता की बात करने वाली भाजपा कांग्रेसियो को अपनी पार्टी में शामिल कर कौन सा चरित्र पेश कर रही है, बताएंगे ? क्या गंगा की सफाई करके उसे पवित्र कर दिया गया है ? यहाँ अटल जी संसद में दिए भाषण का उल्लेख करना अवश्य चाहूंगा। उन्होंने कहा था कि 50 साल में देश ने जबरदस्त विकास किया है।

जिस देश मे सुई तक नही बनती थी, वहां आज हवाई जहाज, अंतरिक्ष यान, अत्याधुनिक हथियार तक बन रहे है। मैं यह कह कर कि देश ने कोई विकास नही किया है, देश के किसानों, वैज्ञानिको तथा तकीनीकी विशेषज्ञ का अपमान नही कर सकता। फिर मोदी बार बार यह राग क्यो अलापते है कि 60 साल में देश ने कोई विकास नही किया है। आपने विदेश की भी चर्चा की। एनआरआई भी मोदी को विश्व का सबसे बड़ा लफ्फाज कहते है। यह है हमारे प्रधानमंत्री की रेपुटेशन। कृपया आप दूसरे चश्मे देखिये। वर्तमान चश्मे में मोदी चिपक चुके है।

Tags:    
Share it
Top