Breaking News
Home > राज्य > दिल्ली > कुमार विश्वास का मातृदिवस इतना कहना था कि भारत माँ के कपूत और उनके समर्थक देने लगे गालियाँ

कुमार विश्वास का मातृदिवस इतना कहना था कि भारत माँ के कपूत और उनके समर्थक देने लगे गालियाँ

 Special Coverage News |  12 May 2019 7:23 AM GMT  |  दिल्ली

कुमार विश्वास का मातृदिवस इतना कहना था कि भारत माँ के कपूत और उनके समर्थक देने लगे गालियाँ

डॉ कुमार विश्वास अब किसी पहचान के मोहताज नहीं है. जहाँ दिल्ली ही नहीं पूरे विश्व में भारत माँ को सम्मान दिलाने वाले कुमार का नाम अब विश्वास के साथ लिया जाता है. कुमार के साथ विश्वास उसी तरह जुड़ जाता है जैसे बाप के साथ बेटा, पति के साथ पत्नी.


अब चूँकि छठे चरण का मतदान आज हो रहा है जिसमें दिल्ली प्रदेश की सभी सात सीटों पर भी चुनाव हो रहा है. डॉ कुमार विश्वास ने प्रत्येक चरण में मतदाताओं से हमेशा बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने की बात की है. हर बार अपनी अपील भी की है. इस बार उन्होंने आज मातृदिवस पर "भारतमाँ" को प्रणाम करने के लिए मतदान ज़रूर करिए की अपील की. साथ ही कहा कि उन कुपुत्रों को सबक़ सिखाइए जो भारतमाता के टुकड़े करने के ख़्वाब देखते हैं,नारे लगाते हैं. उन लंपटों के ऐसे छद्म साथियों को तबाह करिए जो सेना के शौर्य पर सवाल उठाकर भारतमाता का मस्तक झुकाना चाहते हैं.


डॉ कुमार विश्वास का इतना कहना भर था कि छद्म साथी उनेक साथ गाली गलौज की भाषा पर उतर आये. इससे पता चलता है कि आप वास्तव में भारत माँ के विरोध की बात से सहमत है. तब उन्होंने उन गालिबाजों को समझाते हुए कहा, आज सुबह जब मैंने लिखा कि "भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की बात करने वाले कपूतों और उनको उपद्रव-प्रिय यारों को हराइए" तो आत्ममुग्ध बौने के सत्ता व 2G गुप्तदान पालित चिंटू मुझे गालियाँ बकने लगे. यानि ये एक-दो दर्जन शेष बचे बंधक भी समझते तो हैं कि "कपूत" कौन है.


डॉ कुमार विश्वास ने कहा कि "पूजा का दीपक बिन बाले खुद जल जाता है, माँ का आना घर भर को मालूम चल जाता है"नौ माह तक अपने भीतर एक प्राण का सृजन कर उसे जीवन-चक्र हेतु तैयार करने वाली माँ की वंदना के लिए एक दिन क्या, एक आयु भी कम है। मेरे जीवन का क्षण-क्षण तुम्हारा ही तो है माँ.



डॉ कुमार ने कहा कि अन्ना के आज दिए बयान पर "कल-परसों" के कुछ बालक आज दिनभर उन्हें गरियाते रहे.सत्ता और 2G गुप्तदान की "खुरचन" चाट रहे इन बालकों से निवेदन है कि इन्हीं अन्ना की तपस्या के बल पर तुम और तुम्हारा आंदोलन-हत्यारा आका मुँह खोल पा रहा है.ख़ैर दिल्ली कल सुबह इसे दुबारा देखकर वोट देने जाएगी.



Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top