Top
Home > राज्य > दिल्ली > एटलस साइकिल कंपनी की मालकिन नताशा कपूर ने की खुदकुशी, पंखे से लटका मिला शव

एटलस साइकिल कंपनी की मालकिन नताशा कपूर ने की खुदकुशी, पंखे से लटका मिला शव

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक एटलस कंपनी की मालिक कपूर फैमिली 3 औरंगजेब लेन में रहती है।

 Arun Mishra |  22 Jan 2020 12:25 PM GMT  |  दिल्ली

एटलस साइकिल कंपनी की मालकिन नताशा कपूर ने की खुदकुशी, पंखे से लटका मिला शव

नई दिल्ली : एटलस साइकिल कंपनी की मालकिन नताशा कपूर ने खुदकुशी कर ली है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम मार्ग स्थित कोठी में उनका शव पंखे से लटका मिला. बताया जा रहा है कि संजय कपूर की पत्नी नताशा कपूर ने घर में पंखे से लटककर आत्महत्या की. हालांकि अभी तक खुदकुशी की वजह साफ नहीं हो पाई है. हालांकि पुलिस मामले की जांच कर रही है.

जिला पुलिस अधिकारियों के मुताबिक एटलस कंपनी की मालिक कपूर फैमिली 3 औरंगजेब लेन में रहती है। संजय कपूर भी यहीं परिवार के साथ रहते हैं। मंगलवार दोपहर को जब उनकी पत्नी नताशा कपूर ने लंच नहीं किया तो परिवार ने उनको ढूंढा। बेटे सिद्धांत कपूर ने फोन किया तो उन्होंने नहीं उठाया। कमरे में जाकर देखा गया तो नताशा कपूर ने अपने कमरे में चुन्नी के जरिये पंखे से फांसी लगा ऱकी है। परिजनों ने चुन्नी को काटकर उनके शव को नीचे उतारा। नीचे उतार कर नताशा को सीपीआर दी गई। इसके बाद डॉक्टर को बुलाया गया। डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, 57 वर्षीय नताशा कपूर का सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है. इस घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए दिल्ली के गंगाराम हॉस्पिटल भेजा दिया. पोस्टमॉर्टम के बाद नताशा कपूर के शव को परिजनों को सौंप दिया गया. बुधवार को लोधी रोड स्थित श्मशान घाट में एटलस साइकिल कंपनी की मालकिन का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

दिल्ली में लगातार बढ़ रहीं खुदकुशी की घटनाएं

पिछले कुछ समय से दिल्ली में खुदकुशी की घटनाओं में इजाफा देखने को मिला है. इससे पहले इसी महीने के पहले हफ्ते में दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक शख्स के फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. दिल्ली पुलिस को शख्स का शव बुराड़ी इलाके में पंखे से लटका मिला था.

पुलिस कमरे का दरवाजा तोड़कर अंदर गई थी और शव को फंदे से नीचे उतारा था. दिल्ली पुलिस ने जब कमरे को खंगालना शुरू किया, तो उसकी नजर दीवारों पर गई. दीवार पर लिखा हुआ था कि 'जीवन का अंतिम लक्ष्य मृत्यु है.' इसके अलावा दीवार पर यह भी लिखा मिला था- जो लोग इज्जत नहीं देते हैं, उनके साथ खड़े होने की बजाय अकेले रहना ज्यादा अच्छा है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story

नवीनतम

Share it