Home > सेक्‍स मानव दिनचर्या का एक अभिन्‍न अंग!

सेक्‍स मानव दिनचर्या का एक अभिन्‍न अंग!

 Special News Coverage |  2015-11-05 14:57:50.0

sex1

सेक्‍स मानव दिनचर्या का एक अभिन्‍न अंग होता है। यह एक वो खास लम्‍हा होता है जिस दौरान इंसान मानो अपनी सारी परेशानी से उन्‍मुक्‍त होकर एक दूसरी दुनिया में विचरण करता है। ऐसा होना भी चाहिए, क्‍योंकि कामशास्‍त्र में भी ऐसा ही वर्णन है कि सेक्‍स न केवल एक क्रिया है बल्कि एक साधना है, और साधाना कैसी भी हो यदि वो बीच में भंग न हो तभी बेहतर है।




सेक्‍स के दौरान दो लोगों के बीच परस्‍पर सहयोग और शांत वातावरण दोनों का होना बहुत ही आवश्‍यक है। लेकिन ऐसा कई बार देखा जाता है कि सेक्‍स के दौरान किसी विघ्‍न के वजह से आपके साथी का ध्‍यान भटक जाता है और वो सेक्‍स से मूंह मोड़ लेता है। ऐसा होना न केवल आपके साथी के लिए परेशानी का सबब है बल्कि इसका बुरा असर आपके सेक्‍स लाईफ पर भी सीधा पड़ता है।

Tags:    
Share it
Top