Breaking News
Home > सबके लिए सही नहीं है ताम्बे के बर्तन का पानी ! जानिए किसे पीना चाहिए और किसे नहीं

सबके लिए सही नहीं है ताम्बे के बर्तन का पानी ! जानिए किसे पीना चाहिए और किसे नहीं

ताम्बे में लोटे में रखा हुआ पानी पीना का नियम उनके लिए है जिनको कुछ तकलीफ है. जो शरीर में ताम्बे की मात्रा कम होने से होती है.

 Ekta singh |  2017-12-01 05:07:25.0  |  नई दिल्ली

सबके लिए सही नहीं है ताम्बे के बर्तन का पानी ! जानिए किसे पीना चाहिए और किसे नहीं

नई दिल्ली: अब हम आपको बताते है कि ताम्बे के लोटे में रखा हुआ पानी पीना चाहिए या नही पीना चाहिए. ये आप सब जानते है कि हमारा शरीर 18 तत्वों से बना हुआ है.

शरीर में सोना भी होता है, चांदी भी है, लोहा भी है ऐसे ही टोटल 18 होते है. और आपको जानकारी दे दू कि यही सब 18 तत्व मिटटी में भी होते है और मिटटी से जब अन्न (भोजन) पैदा होता है उसमे ये सब होता है. हम उसे खाते है और वो हमारे शरीर में आते है.

ताम्बे में लोटे में रखा हुआ पानी पीना का नियम उनके लिए है जिनको कुछ तकलीफ है. जो शरीर में ताम्बे की मात्रा कम होने से होती है. मतलब ये कि अगर हमें कोई ऐसी बीमारी हो गयी जो ताम्बे के कम होने से होती है.
उनमे से एक बीमारी जो आजकल बहुत आ रही है वो है "सर के बाल जल्दी गिरना". ये जितने बल झड़ने वाले मरीज है जिनको ये शिकायत है कि हमारे बाल बहुत टूट रहे है, तो आप समझ लीजिये शरीर में ताम्र तत्व की कमी हो गयी है तो ऐसे लोग को ताम्बे के लोटे या बर्तन में पानी पीना बहुत अच्छा होगा.
इससे आपके बाल बहुत मजबूत हो जायेंगे. इसी तरह एक दूसरी बीमारी है – जिन लोगों की आँखो की रौशनी कम हो गयी ,है उनके शरीर में भी ताम्र तत्व कम हो गए है. ताम्बे के लोटे में रखा हुआ पानी उनके लिए बहुत अच्छा है.
लेकिन अगर आपको कोई बीमारी नही है तो सादा पानी ही आपके लिए सबसे अच्छा है और अगर है एक चीज हमेशा याद रखिये ताम्बे के बर्तन का पानी लगातार नही पी सकते. बीच बीच में उसको रोकना पड़ता है.
जैसे तीन महीने लगातार पी लिया अब एक महीने छोड़ दीजिये फिर तीन महीने पी लीजिये फिर एक महीने छोड़ दीजिये. ऐसे करके चलेंगे तभी उसके परिणाम अच्छा आएगा. अगर आप लगातार पीते है तो हो सकता है आपको कोई अन्य बीमारी हो जाए

Tags:    
Share it
Top