Home > Archived > भारत के सख्त विरोध के बाबजूद अमेरिका ने मानी पाकिस्तान की बात

भारत के सख्त विरोध के बाबजूद अमेरिका ने मानी पाकिस्तान की बात

 Special News Coverage |  5 March 2016 12:49 PM GMT


obama-sharif
वॉशिंगटन
भाषा

भारत और अनेक शीर्ष अमेरिकी सांसदों के सख्त विरोध के बावजूद अमेरिकी सरकार ने औपचारिक रूप से पाकिस्तान को 8 एफ-16 युद्धक विमानों की बिक्री की संघीय अधिसूचना प्रकाशित कर दी।

संघीय रजिस्टर में शुक्रवार को प्रकाशित अधिसूचना में कहा गया है क‍ि प्रस्तावित बिक्री दक्षिण एशिया में एक सामरिक साझेदार की सुरक्षा में सुधार में मदद कर अमेरिकी विदेशी उद्देश्यों और राष्ट्रीय सुरक्षा लक्ष्यों में योगदान करती है। इस अधिसूचना के साथ अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष पॉल रयान को लिखा गया रक्षा सहयोग एजेंसी (डीएससीए) का 11 फरवरी का पत्र भी प्रकाशित किया गया है।


संघीय अधिसूचना में बताया गया है कि इन एफ-16 विमानों की कुल कीमत तकरीबन 70 करोड़ डॉलर आंकी गई है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान सरकार ने इस बिक्री का आग्रह किया था।

भारत ने पाकिस्तान को एफ-16 विमानों की बिक्री का विरोध किया था और कहा था कि वह अमेरिका के इस तर्क से असहमत है कि इस तरह के हथियारों के हस्तांतरण से आतंकवाद से लड़ने में मदद मिलेगी।

रिपब्लिकन सीनेटर रैंड पॉल ने सीनेट में अपने सहयोगियों से कहा है कि वे पाकिस्तान को एफ-16 विमानों की बिक्री करने के विरोध में उनका साथ दें।

पॉल ने कहा क‍ि अमेरिकी करदाताओं की उदार सब्सिडी से पाकिस्तान को सैन्य हार्डवेयर की बिक्री उन्हें अंतरराष्ट्रीय समुदाय में जिम्मेदार देश बनने और आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष में मदद करने के लिए रजामंद करने का कोई तरीका नहीं है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top