Home > हिसार की बेटी अंजू चौधरी नार्वे में बनी विधायक, किया भारत का नाम रोशन

हिसार की बेटी अंजू चौधरी नार्वे में बनी विधायक, किया भारत का नाम रोशन

 Special News Coverage |  2015-09-19 08:05:22.0

untitled-25_1442529458

हिसारः हिसार की बेटी अंजू चौधरी नार्वे में एफआरके पार्टी (फ्रेमस्क्रिप्ट्स पार्टी) की विधायक बन गई हैं। वेस्ट अगडर राज्य के घोषित हुए चुनाव परिणामों में पहली ही बार चुनाव लड़ी 33 वर्षीय अंजू विजयी रहीं। फिलहाल इनका नाम मंत्री पद की दौड़ भी चल रहा है। वहीं, हिसार में भी परिजनों में खुशी का आलम है। अंजू अपने पति हाकुन मनरेक के साथ हिसार आ रहीं हैं।



हिसार के गवर्नमेंट कॉलेज से ग्रेजुएट करने वाली अंजू के पिता रामप्रताप सहारण एचएयू के पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट में कार्यरत हैं। अंजू के नार्वे तक का सफर भी रोचक है। खुद अंजू ही पूरी कहानी बताते हुए कहती हैं कि उनकी बड़ी बहन मंजू चौधरी अपने पति आजाद नगर निवासी निवासी राजेश बुडानियां नार्वे में ही रहती हैं। साल 2006 में वह अपनी दीदी के पास घूमने गई थीं। वहीं एक बर्थ डे पार्टी में पहली बार एक कंपनी संचालक हाकुन मनरेक से मुलाकात हुई। जबकि 2007 में छुट्टियों में फिर नार्वे गई तो इस बार हाकुन से शादी करने का फैसला लिया। परिवार की सहमति के बाद भारतीय रीति-रिवाज के हिसाब से भारत में ही शादी की। शादी के बाद से ही नार्वे में रह रहीं हैं। वहां रहकर मैनेजमेंट में मास्टर डिग्री भी की।


अपने देश में सीखे संस्कार और मेहनत
अंजू का कहना है कि इंडिया की दो विशेषताएं हमें अन्य देशों से अलग करती हैं। इसमें एक है हार्डवर्क और यहां के संस्कार। नार्वे में भ्रष्टाचार नहीं है, यही खूबी वहां की राजनीति की है। खुद अंजू मानती हैं कि मैंने चुनाव में अपना एक भी रुपया खर्च नहीं किया, क्योंकि नार्वे में पार्टी ही पैसा देती है।



style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">




अपनी बहनों को किया मिस
अंजू कहती हैं कि मैं बेशक नार्वे में बस गई हूं, लेकिन मेरा दिल आज भी इंडिया में रहता है। इसलिए जीत के बाद अपने परिवार को हिसार में बिताए दिनों काे याद करना नहीं भूली। इनका कहना है कि सभी बहनें शादीशुदा हैं। इसमें संजू विद्युत नगर में अपने पति जेपी बुडानिया, जबकि एक बहन मनीष की शादी ललित चौधरी से हुई है।

राजनीति में थी रुचि इसलिए पार्टी ज्वाइन की
अंजू ने शादी के बाद स्टेट ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन में जॉब करती थीं। इससे पहले उन्होंने एक बैंक में भी नौकरी की। राजनीति में रुचि होने के कारण पार्टी भी कुछ साल पहले ही ज्वाइन की थी। परिवार और पति का पूरा सपोर्ट रहा। अपनी मां कलावती के हाथ का खाना खाना अौर घूमने का इन्हें बेहद शौक है।




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">

Tags:    
Share it
Top