Home > ड्रोन हमले में मारा गया 'जिहादी जॉन' - IS ने की पुष्टि

ड्रोन हमले में मारा गया 'जिहादी जॉन' - IS ने की पुष्टि

 Special News Coverage |  2016-01-20 04:15:59.0

jihadi



रक्का : आईएसआईएस ने मंगलवार को ब्रिटिश आतंकी जिहादी जॉन के ड्रोन हमले में मारे जाने को कन्फर्म कर दिया। जिहादी जॉन उर्फ मोहम्मद एमवाजी की मौत बीते साल नंवबर में यूएस ड्रोन हमले में हो गई थी। वह बंधकों के सिर कलम करने वाले प्रोपेगैंडा वीडियोज से जाना जाता था।

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष नवंबर में अमरीकी सेना ने दावा किया था कि 12 नंवबर 2015 को आईएसआईएस आतंकवादी जिहादी जॉन सीरिया में हुए उसके हवाई हमलों में मारा गया। अमरीकी सेना के अनुसार जिहादी जॉन की मौत इस्लामी स्टेट के लिए एक बड़ा झटका था। हालांकि आईएस ने इस खबर की तब तक पुष्टि नहीं की थी।


आईएसआईएस की मीडिया विंग द्वारा जारी किए गए हर प्रोपेगैंडा वीडियो में मोहम्मद एमवाजी काले रंग के कपड़े और मास्क पहने नजर आता था। बंधकों की हत्या के दौरान वह ब्रिटिश लहजे में वेस्टर्न कंट्रीज को धमकी देता था।

जिहादी जॉन पहली बार सुर्खियों में अगस्त 2014 में आया था। तब इस्लामिक स्टेट द्वारा जारी एक वीडियो में वह अमरीकी पत्रकार जेम्स फोली का सिर कलम करते हुए दिखाई दिया था। इसके बाद वह सितंबर 2014 में जारी एक अन्य वीडियो में जिहादी जॉन अमरीकी पत्रकार स्‍टीव सोटलॉफ तथा ब्रिटिश सहायता कार्यकर्ता डेविड हैंस का सिर कलम करते हुए दिखाई दिया।

जेहादी जान का असली नाम मोहम्मद एमवाजी था। ऐसा माना जाता है कि उसका जन्म कुवैत में हुआ था और वो छह साल की उम्र में यूके आ गया था। पश्चिमी लंदन के प्राइमरी स्कूल में वह अकेला मुस्लिम स्टूडेंट था। जेहादी जॉन के मारे जाने के बाद अबू रुमायसाह ने उसकी जगह ली थी। भारतीय मूल के सिद्धार्थ धर के नया जेहादी जॉन होने का शक भी है।

Tags:    
Share it
Top