Home > पाक जांच टीम को मिल सकती है पठानकोट एयरबेस में प्रवेश की इजाजत

पाक जांच टीम को मिल सकती है पठानकोट एयरबेस में प्रवेश की इजाजत

 Special News Coverage |  2016-03-22 08:31:54.0

पाक जांच टीम को मिल सकती है पठानकोट एयरबेस में प्रवेश की इजाजत

नई दिल्ली: पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमले की जांच के लिए पाकिस्तान की ज्वाइंट इन्वेस्टिगेशन टीम 27 मार्च को भारत आ रही है। सूत्रों का कहना है कि भारत सरकार पाकिस्तान की इस टीम को एयरबेस के अंदर जाकर जांच की इजाजत दे सकती है। इस बीच पठानकोट एयरबेस के चार हमलावरों की तस्‍वीरें भी जारी कर दी गयी हैं।

सूत्रों की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान की जांच टीम अपना शेड्यूल इस तरह से तय करेगी, ताकि वो भारत की एनआईए से जांच में अब तक हुई प्रोग्रेस को लेकर बातचीत कर सके। एनआईए और पाकिस्तान की टीम के बीच मुलाकात दिल्ली में होगी। पठानकोट में जांच के दौरान एनआईए के अफसर भी पूरे वक्त मौजूद रहेंगे। हालांकि, एनआईए चीफ शरद कुमार ने इस बारे में स्टैंड क्लियर नहीं किया। उन्होंने कहा कि इस बारे में फैसला सरकार को लेना है।


सरकार से जुड़े सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी जांच टीम दिल्ली पहुंचने के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के साथ एक विस्तृत बातचीत कर सकती है। इसके बाद पाक टीम को पठानकोट में एयरफोर्स एयरबेस कैंपस के उस स्पॉट पर ले जाया जा सकता है, जहां आंतकियों और सेना के बीच मुठभेड़ हुई थी।

इस बीच एनआइए ने हमलावरों की पहचान की कवायद तेज कर दी है। इस सिलसिले में मारे गए चार आतंकियों का फोटो जारी कर आम लोगों से उनके बारे में जानकारी मांगी है। इन आतंकियों की पहचान सुनिश्चित करने के लिए एनआइए पहले ही इंटरपोल को ब्लैक नोटिस जारी करने का अनुरोध कर चुका है।

एनआइए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमले के साजिशकर्ताओं तक पहुंचने के लिए हमला करने आए आतंकियों की पहचान जरूरी है। इसीलिए उनके फोटो जारी किए गए हैं ताकि जिस किसी को भी इनके बारे में कोई भी जानकारी हो, एजेंसी तक पहुंच सके। वैसे वरिष्ठ अधिकारी ने यह भी कहा कि मारे गए सभी आतंकी पाकिस्तान से आए थे और उनके बारे में भारत में किसी से जानकारी मिलने उम्मीद नहीं है। जाहिर है जांच एजेंसी ये फोटो पाकिस्तानी जांच दल को सौंपेगी, ताकि पाकिस्तान में उनकी पहचान की जा सके।

इसमें सबसे दिलचस्प बात यह है कि क्या पाक टीम एनएसए अजीत डोभाल से भी पूछताछ करेगी। ऐसा इसलिए क्योंकि उनके द्वारा दी गई सूचना के आधार पर ही पाकिस्तान के गुजरांवाला में एफआईआर दर्ज की गई है और वह तकनीकी रूप से इस मामले में शिकायतकर्ता हैं।

Tags:    
Share it
Top