Home > 'राफेल' सौदे पर लगी मुहर, भारत को फ्रांस से मिलेगा 36 फाइटर प्लेन

'राफेल' सौदे पर लगी मुहर, भारत को फ्रांस से मिलेगा 36 फाइटर प्लेन

 Special News Coverage |  2016-04-16 12:59:10.0

'राफेल' सौदे पर लगी मुहर, भारत को फ्रांस से मिलेगा 36 फाइटर प्लेन

नई दिल्ली: रक्षा क्षेत्र की अब तक की सबसे बड़ी और चर्चित भारत व फ्रांस के बीच 36 राफेल युद्धक विमान सौदे पर आखिरी मुहर लग चुकी है। इस नए समझौते के मुताबिक भारत 780 करोड़ यूरो यानि साठ हजार करोड़ में 36 राफेल युद्धक विमान फ्रांस से खरीदेगा। इस समझौते के कागजात पर तीन हफ्तों में दस्तखत होंगे और भारत को विमानों की पहली खेप मिलने में 18 महीनों का वक्त लगेगा। फ्रांस ने शुरुआत में पूरी हथियार प्रणाली से लैस 36 लड़ाकू विमानों के लिए 11 अरब यूरो की मांग की थी। कीमतों को लेकर ही यह सौदा अटका हुआ था, अब यह सौदा अंतिम चरण में पहुंच गया है।


इस समझौते के अनुसार 50 प्रतिशत कम से कम एडवांस में देना होगा और 15 प्रतिशत का भुगतान शीघ्र करना होगा। जब फ्रांस के साथ 25 जनवरी को इसको लेकर एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ तो राफेल की तरफ से बताया गया कि हम इस कदम से बहुत प्रसन्न हैं व हम अगले चार हफ्तों में इस डील को फाइनल करने में फ्रांस की सरकार की सहायता करेंगे। भारतीय वायुसेना के पास लड़ाकू विमानों की कमी है व अगर शीघ्र ही इस कमी को पूरा नहीं किया तो उसके लिए ऑपरेशनल जिम्मेदारी निभाना कठिन हो जाएगा। आपको बता दें पीएम मोदी की फ्रांस यात्रा के दौरान नरेंद्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए एक सहमति-पत्र पर दस्तखत किए थे।

जानें राफेल फाइटर प्लेन की खूबियां
डासॉल्ट एविएशन ऑफसेट कंपनी अक्टूबर 2014 तक 133 विमानों का निर्माण कर चुकी है। एक विमान की लागत लगभग 70 मिलियन तक आती है। इसकी लंबाई 15.27 मीटर है और इसमें एक या दो पायलट बैठ सकते हैं।

राफेल दो इंजन वाला मल्टीरोल फाइटर एयरक्राफ्ट है। राफेल एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक जा सकता है। विमान में ईंधन क्षमता 4700 किलोग्राम है। इसके अलावा हवा में भी ईंधन भरा जा सकता है और लगातार दस घंटे कर उड़ान भर सकता है।

इसमें 1.30 द्वद्व की एक गन लगी होती है जो एक बार में 125 राउंड गोलियां निकाल सकती है। इसमें घातक एमबीडीए एमआईसीए, एमबीडीए मेटेओर, एमबीडीए अपाचे, स्टोर्म शैडो एससीएएलपी मिसाइलें लगी रहती हैं। इसमें थाले आरबीई-2 रडार और थाले स्पेक्ट्रा वारफेयर सिस्टम लगा होता है। साथ ही इसमें ऑप्ट्रॉनिक सेक्योर फ्रंटल इंफ्रा-रेड सर्च और ट्रैक सिस्टम भी लगा है। राफेल की अधिकतम रफ्तार 2200 से 2500 तक किमी प्रतिघंटा है और इसकी रेंज 3700 किलोमीटर है।

Tags:    
Share it
Top