Home > तीर्थ यात्रा पर 90 सिखों का जत्था पाकिस्तान के लिए रवाना

तीर्थ यात्रा पर 90 सिखों का जत्था पाकिस्तान के लिए रवाना

 Special News Coverage |  2016-04-11 10:32:30.0

तीर्थ यात्रा पर 90 सिखों का जत्था पाकिस्तान के लिए रवाना

जयपुर: रविवार को जयपुर के राजा पार्क स्थित गुरुद्वारा से सिख समुदाय के 90 श्रद्धालुओं का जत्था तीर्थ यात्रा पर पाकिस्तान के लिए रवाना हुआ है। यह जत्था पाकिस्तान में वहां के मशहूर गुरुद्वारों के दर्शन करेंगे और जानकारी के अनुसार इस साल बैसाखी का त्योहार भी पाकिस्तान में ही मनाएंगे। गुरुदर्शन यात्रा के संयोजक जगजीत सिंह सूरी के अनुसार यह जत्था यहां से अटरी स्टेशन के लिए निकला है। वहां से ये जत्था 12 अप्रैल को पाकिस्तान पहुंचेगा। इसके बाद इस जत्थे के सदस्य 14 अप्रैल को पाकिस्तान के पंजाब स्थित हसन अवदाल में मनाए जाने वाले वैशाखी पर्व में सम्मिलित होंगे।


पाकिस्तान के लिए रवाना होने से पहले यहां जयपुर के राजा पार्क स्थित गुरुद्वारे में इन सभी तीर्थयात्रियों का बैंड बाजे और माला पहनाकर स्वागत किया गया। इस जत्थे में शामिल सदस्यों की उम्र 9 साल से 72 साल के बीच है। तीर्थयात्रा मंगलवार से शुरू होगी। गुरुद्वारा दर्शन कमिटी के संयोजत जगजीत सिंह सूरी बताते हैं, 'यह हमारा सातवां दौरा है। हर साल हम जयपुर से तीर्थयात्रियों की टोली को अलग-अलग मशहूर गुरुद्वारों के दर्शन के लिए भेजते हैं। इनमें ननकाना साहिब, पटना साहिब, सच्चा सौदा साहिब, रोढ़ी साहिब और करतारपुर साहिब शामिल हैं। लोग इन तीर्थयात्रियों से अपील करते हैं कि इन गुरुद्वारों में माथा झुकाते समय यहां रह रहे उनके परिवारों के लिए भी दुआ करें।'

आपको बता दें इस जत्थे में कई लोग ऐसे हैं जो कि पहली बार पाकिस्तान जा रहे हैं। जत्थे में शामिल त्रिलोक सिंह ने बताया, 'मैंने तीर्थ पर पाकिस्तान जाने वाले तीर्थयात्रियों से सुना है कि वहां के लोग बहुत गर्मजोशी से स्वागत करते हैं। पाकिस्तानी बड़े अच्छे मेजबान होते हैं। देखते हैं कि हमारा अनुभव कैसा रहता है। मैं अपने परिवार, शहर और देश के लिए दुआ करूंगा।'

बताया जा रहा है कि सभी तीर्थयात्रियों ने जयपुर-अमृतसर ट्रेन ली। एक ओर अमृतसर के लिए ट्रेन रवाना हुई और दूसरी ओर सभी तीर्थयात्रियों ने मिलकर जोर से 'जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल' का जयकारा लगाया। ये सभी 14 अप्रैल को पाकिस्तान के हसन अवडाल गांव में बैसाखी का त्योहार मनाएंगे। यह जत्था वहां के ननकाणा साहब, पंजा साहब, करतारपुरा साहब, रौटरी साहब और सच्चा सौदा जैसे ऐतिहासिक गुरुद्वारों के दर्शन करेगा। पाकिस्तान के इन सभी गुरुद्वारों के दर्शन कर 90 सदस्यीय यह जत्था 21 अप्रैल को वापस भारत लौटेगा। 23 अप्रैल को जयपुर वापसी पर इनका जोरदार स्वागत-अभिनन्दन किया जाएगा।

Tags:    
Share it
Top